बच्चे के साथ ओरल सेक्स 'गंभीर यौन हमला नहीं': इलाहाबाद हाईकोर्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी कुछ ऐसा ही डिसीजन लिया है। डिसजन के तहत इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यह कहा है कि किसी बच्चे के साथ ओरल सेक्स 'गंभीर यौन हमला' नहीं है बल्कि यह अपराध को पोक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत दंडनीय मानना सही है।

प्रयागराज: कभी-कभी न्यायालय भी ऐसे-ऐसे आदेश दे देती है कि लोगों का माथा ठनक जाता है। ताजा मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी कुछ ऐसा ही डिसीजन लिया है। डिसजन के तहत इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यह कहा है कि किसी बच्चे के साथ ओरल सेक्स 'गंभीर यौन हमला' नहीं है बल्कि यह अपराध को पोक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत दंडनीय मानना सही है।



बच्चे के साथ ओरल सेक्स के एक मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस अपराध को 'गंभीर यौन हमला' नहीं माना है। कोर्ट ने इस प्रकार के अपराध को पोक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत दंडनीय माना है।

Image

मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा है कि यह कृत्य एग्रेटेड पेनेट्रेटिव सेक्सुअल असॉल्ट या गंभीर यौन हमला नहीं है। लिहाजा ऐसे मामले में पोक्सो एक्ट की धारा 6 और 10 के तहत सजा नहीं सुनाई जा सकती। 


न्यूज9इंडिया डेस्क

न्यूज9इंडिया डेस्क