Skip to main content
Follow Us On
Hindi News, India News in Hindi, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi, ताजा ख़बरें, News

5 हजार फीट पर धुएं से भर गई फ्लाइट, स्पाइसजेट की दिल्ली में इमरजेंसी लैंडिंग

दिल्ली से जबलपुर जा रहे स्पाइसजेट के विमान की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है। बताया गया कि जब विमान ने उड़ान भरी तो कुछ ही देर बाद विमान के अंदर काला धुंआ दिखाई देने लगा।

नई दिल्ली: दिल्ली से जबलपुर जा रहे स्पाइसजेट के विमान की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है। बताया गया कि जब विमान ने उड़ान भरी तो कुछ ही देर बाद विमान के अंदर काला धुंआ दिखाई देने लगा। धुंआ देखने के बाद सभी पैसेंजर पैनिक में आ गए और पायलट ने वापस मुड़कर दिल्ली में लैंड करने का फैसला लिया। सभी यात्री सुरक्षित बताए जा रहे हैं।


विमान की जांच जारी 

बताया गया है कि स्पाइसजेट के इस विमान में 50 से अधिक यात्री सवार थे। जब प्लेन करीब 5 हजार फीट की ऊंचाई पर गया तो अचानक स्मोक नजर आने लगा। यात्रियों को पहले तो समझ नहीं आया कि ये सब क्या हुआ, लेकिन जैसे ही धुआं बढ़ता गया, लोग परेशान होने लगे। लेकिन जब पायलट ने सुरक्षित विमान की लैंडिंग दिल्ली एयरपोर्ट पर कराई तो लोगों ने राहत की सांस ली। इस दौरान लोगों को विमान में हाथ वाले पंखों की मदद से धुएं को दूर करते हुए भी देखा गया। फिलहाल विमान को रनवे में खड़ा किया गया है, जहां उसकी जांच की जा रही है।


Whatsapp ने किया सिस्टम में बदलाव, इस एक गलती से बंद हो सकता है आपका अकाउंट

व्हाट्सएप ने नया अपडेट करते हुए अकाउंट ब्लॉक करने की अपनी नीति में बदलाव किया है। तो आइए जानते हैं कि कैसे आपका अकाउंट ब्लॉक होने से बच सकता है।


नई दिल्ली: आजकल सोशल मीडिया का इस्तेमाल हर उम्र और तबके के लोग करते हैं। सोशल मीडिया हर इंसान की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका है। सोशल मीडिया ने लोगों के लिए कई तरह की सहूलियत पैदा की है लेकिन डिजिटलाइजेशन के इस दौर में सोशल मीडिया पर ठगों ने अपनी एक दुनिया बना ली है।

साइबर क्राइम से निपटने के लिए सरकार कई अहम कदम उठा रही है, तो वहीं कंपनियां भी अपने सिक्योरिटी सिस्टम को लेकर नए नए अपडेट करते रहते हैं व्हाट्सएप ने नया अपडेट करते हुए अकाउंट ब्लॉक करने की अपनी नीति में बदलाव किया है। तो आइए जानते हैं कि कैसे आपका अकाउंट ब्लॉक होने से बच सकता है। 

यदि आप किसी यूजर को अश्लील वीडियो, मानहानिकारक मैसेज या धमकी भरे मैसेज भेजते हैं तो कंपनी ​बिना देर किए आपका अकाउंट बैन कर देगी। इसलिए मैसेज करते समय सतर्क रहें। साथ ही अगर Whatsapp का उपयोग करते समय आपको 24 घंटे से कम समय में अधिक लोगों ने ब्लॉक किया है तो कंपनी आपके अकाउंट को आधिकारिक तौर पर बंद कर सकती है। वहीं Whatsapp पर यदि आप फेक न्यूज फॉरवर्ड करते हैं तो कंपनी आपके अकाउंट को बंद कर सकती है। ऐसे में फेक न्यूज को नजरअंदाज करना आपके लिए बेहतर होगा।


दिल्ली के बादली इलाके में प्लास्टिक गोदाम में भीषड़ आगजनी, रोबोट ने बुझाई आग

दिल्ली के बादली इलाके में प्लास्टिक गोदाम में भीषड़ आगजनी, रोबोट ने बुझाई आग

नई दिल्ली: दिल्ली के बादली इलाके में प्लास्टिक गोदाम में लगी आग बुझाने के लिए रोबोट का इस्तेमाल किया गया आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड की कई गाड़ियों को भेजा गया।  जब ये गाड़ियां आग बुझाने में नाकाम साबित हुईं तो रोबोट की तैनात किया गया।

ऑस्ट्रेलिया से आए रोबोट ने आधे घंटे में आग पर काबू पा लिया। इसे रिमोट कंट्रोल फाइटिंग मशीन भी कहा जाता है।  

दरअसल रविवार सुबह 2:18 बजे रोहिणी जेल के पीछे बादली इलाके में एक प्लास्टिक के गोदाम में आग लगने की खबर मिली थी आग इतनी भीषण थी कि इस पर काबू पाने के लिए दमकल की 23 गाड़ियों को भेजा गया ज्वलनशील पदार्थ होने और बाहर कम जगह होने की वजह से आग बुझाने के लिए रोबोट को भेजा गया और रोबोट ने आग को फैलने से पहले काबू पा लिया  आग लगने से काफी नुकसान हुआ है  लेकिन राहत की बात ये है कि किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है।

डायरेक्टर दिल्ली फायर सर्विसेज अतुल गर्ग के मुताबिक आग बुझाने वाले रोबोट का इस्तेमाल ऐसी जगहों पर किया जाता है जहां फायर ब्रिगेड गाड़ी  का पहुंचना मुश्किल होता है  आग लगने की जगह पर  रिमोट की मदद रोबोट को भेजा जाता है और एक आग लगने की जगह से 30 मीटर दूर खड़े होकर इसे ऑपरेट किया जा सकता है।


Twitter का इस्तेमाल करने के लिए चुकानी पड़ सकती है कीमत, एलन मस्क ने दिया हिंट!

एलन मस्क (Elon Musk) ट्विटर खरीदने के बाद लगातार चर्चाओं में हैं। अब उन्होंने संकेत दिए हैं कि भविष्य में ट्विटर (Twitter) का इस्तेमाल करने पर यूजर्स को चार्ज देना पड़ सकता है।

नई दिल्ली:  एलन मस्क (Elon Musk) ट्विटर खरीदने के बाद लगातार चर्चाओं में हैं। अब उन्होंने संकेत दिए हैं कि भविष्य में ट्विटर (Twitter) का इस्तेमाल करने पर यूजर्स को चार्ज देना पड़ सकता है। हालांकि, उन्होंने इस बात को भी साफ किया है कि कैजुअल यूजर्स के लिए यह हमेशा की तरह फ्री ही रहेगा


 उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, ‘कैजुअल यूजर्स के लिए ट्विटर हमेशा फ्री रहेगा, लेकिन कमर्शियल/सरकारी यूजर्स (Commercial users) को कीमत चुकानी पड़ सकती है।’ शुल्क-आधारित सदस्यता के विचार के लिए ट्विटर बिल्कुल नया नहीं होगा और ट्विटर ब्लू भी ऐसा करता आया है।

यह ट्विटर के सबसे वफादार ग्राहकों को एक छोटे से मंथली सदस्यता शुल्क पर प्रीमियम सुविधाओं की विशेष पहुंच देता है। ट्विटर ब्लू आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है और अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में लोग इसका इस्तेमाल कर रहे हैं।

बता दें कि 44 बिलियन डॉलर में ट्विटर को खरीदने के लिए एलन मस्क के सौदे के बाद, सोशल मीडिया का दिग्गज का भविष्य अनिश्चितता में डूबा हुआ है। कुछ रिपोर्ट्स से संकेत मिलते हैं कि एलन मस्क ने तीन साल बाद फिर से ट्विटर को जनता के बीच ले जाने की योजना बनाई है।


Twitter के CEO पद से पराग अग्रवाल की होनेवाली है छुट्टी, एलन मस्क को चुकानी होगी इतनी कीमत

अब कहा जा रहा है कि एलन मस्क ट्विटर में कई बदलाव करना चाह रहे हैं जिसके बाद ट्विटर के CEO पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) को उनके पद से हटाने को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे अमीर आदमी एलन मस्क (Elon musk) ने हाल ही में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) को 44 बिलियन डॉलर में खरीदा है। 

अब कहा जा रहा है कि एलन मस्क ट्विटर में कई बदलाव करना चाह रहे हैं जिसके बाद ट्विटर के CEO पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) को उनके पद से हटाने को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।


बता दें कि अब एक खबर में दावा किया जा रहा है कि ट्विटर के सीईओ को पद से हटना पड़ सकता है क्योंकि न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, ट्विटर के नए मालिक एलन मस्क ने एक नए सीईओ को तैयार कर लिया है लेकिन, उसके नाम का खुलासा नहीं किया गया है।

 ट्विटर आने वाले समय में जल्द ही नए सीईओ के नाम की घोषणा कर सकता है। ऐसे में भारतीय मूल के सीईओ पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) के भविष्य पर सवाल खड़े होने लगे है। 


बता दें कि, पिछले साल नवंबर में ट्विटर के सह संस्थापक और पूर्व सीईओ जैक डॉर्सी के इस्तीफे के बाद पराग अग्रवाल को ट्विटर की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। पराग को ट्विटर की जिम्मेदारी संभाले एक साल भी नहीं हुए हैं लेकिन रिसर्च फर्म इक्विलर के अनुसार अगर ट्विटर पराग को 12 महीने से पहले हटाता है तो ट्विटर उनको  42 मिलियन का भुगतान करेगा। 

इस बीच खबर है कि, माईपिलो के मुख्य कर्यपालक अधिकारी (सीईओ) माइक लिंडेल को ट्विटर ने दोबारा बैन कर दिया गया है। इस कार्रवाई को अहम मानने के पीछे कहा जा रहा है कि ट्विटर इस समय अभिव्यक्ति की आजादी (फ्री स्पीच) पर जोर दे रहे हैं। जैसा की एलन ने ट्विटर को अधिग्रहित करने से पहले ही कहा था।  


एलन मस्क बने Twitter किंग, जानिए-कितने में हुई डील

टेस्ला के चीफ एलन मस्क ने आखिरकार ट्विटर को खरीद लिया। कंपनी की तरफ से इस सौदे को लेकर जानकारी दी गई। कंपनी ने बताया कि 44 अरब अमेरिकी डॉलर में यह सौदा हुआ है।

नई दिल्ली: पहले छोटी सी हिस्सेदारी और फिर पूरे साम्रज्य पर कब्जा! जी हां! टेस्ला के चीफ एलन मस्क ने आखिरकार ट्विटर को खरीद लिया। कंपनी की तरफ से इस सौदे को लेकर जानकारी दी गई। कंपनी ने बताया कि 44 अरब अमेरिकी डॉलर में यह सौदा हुआ है। 


पॉपुलर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर को खरीदने को लेकर एलन मस्क के साथ डील लगभग फाइनल हो चुकी है। इस बीच टेस्ला चीफ का एक ट्वीट बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 


इस ट्वीट के बाद जानकार मान रहे हैं कि दोनों कंपनियों के बीच डील डन हो चुकी है। इससे साफ है कि ट्विटर पर दुनिया के सबसे अमीर शख्स में से एक एलन मस्क का कब्जा हो गया है।

एलन मस्क ने ट्वीट कर कहा, 'मुझे उम्मीद है कि मेरे सबसे बुरे आलोचक भी ट्विटर पर बने रहेंगे, क्योंकि फ्री स्पीच का यही मतलब है।' 

मस्क का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इससे पहले खबर थी कि ट्विटर 54.20 डॉलर प्रति शेयर नगद कीमत पर एलन मस्क के हाथ में जा सकता है। रिपोर्ट्स के अनुसार, ट्विटर इस सौदे को पूरा करने के करीब था। यह वही कीमत है, जो एलन मस्क ने ट्विटर को ऑफर की थी। मस्क की तरफ से कहा गया था कि यह उनकी तरफ से बेस्ट और फाइनल ऑफर है।

बोर्ड की बैठक के बाद ट्विटर सोमवार देर रात इस 43 अरब डॉलर की डील की घोषणा कर दी। एलन मस्क ने पिछले हफ्ते 43 अरब डॉलर में माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर को खरीदने की पेशकश की थी। मस्क ट्विटर को खरीदने की पेशकश करने के बाद से ही इस डील के लिए कंपनी पर दबाव बना रहे थे।


Twitter को पूरी तरह खरीदने के लिए तैयार हैं एलन मस्क, लगाई इतनी कीमत

ट्विटर ने बृहस्पतिवार को शेयर बाजार को बताया कि मस्क ने बुधवार को ट्विटर को एक पत्र भेजा, जिसमें कंपनी के बाकी शेयरों को खरीदने का प्रस्ताव था। मस्क ने ट्विटर के प्रत्येक शेयर के लिए 54.20 डॉलर की पेशकश की है।

नई दिल्ली: टेस्ला के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क ने ट्विटर को खरीदने की पेशकश की है। कुछ दिन पहले उन्होंने कहा था कि वह अब सोशल मीडिया कंपनी के निदेशक मंडल में शामिल नहीं होंगे।


बता दें कि मस्क के पास इस समय ट्विटर के नौ प्रतिशत से अधिक शेयर हैं। वह कंपनी के सबसे बड़े शेयरधारक हैं। ट्विटर ने बृहस्पतिवार को शेयर बाजार को बताया कि मस्क ने बुधवार को ट्विटर को एक पत्र भेजा, जिसमें कंपनी के बाकी शेयरों को खरीदने का प्रस्ताव था। मस्क ने ट्विटर के प्रत्येक शेयर के लिए 54.20 डॉलर की पेशकश की है।

शेयर बाजार को दी जानकारी में मस्क ने कहा, ‘‘मैंने ट्विटर में निवेश किया, क्योंकि मैं दुनियाभर में मुक्त अभिव्यक्ति के लिए मंच बनने में विश्वास करता हूं, और मेरा मानना है कि स्वतंत्र अभिव्यक्ति एक कार्यशील लोकतंत्र के लिए सामाजिक अनिवार्यता है।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘हालांकि, अपना निवेश करने के बाद मुझे एहसास हुआ कि कंपनी अपने मौजूदा स्वरूप में न तो उन्नति करेगी और न ही इस सामाजिक अनिवार्यता को पूरा करेगी। ट्विटर को एक निजी कंपनी के रूप में बदलने की जरूरत है।’’
बाजार खुलने से पहले ट्विटर के शेयरों में करीब 12 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला।


अब यूपी सरकार और पंजाब कांग्रेस का ऑफिशियल Twitter अकाउंट हैक

शीर्ष नेताओं व सरकारी कार्यलयों के ट्विटर एकाउंट हैक होने के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामले में यूपी सरकार का और पंजाब कांग्रेस का ट्विटर एकाउंट हैक हो गया और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लेकर तमाम ट्वीट कर दिये गये।

नई दिल्ली: शीर्ष नेताओं व सरकारी कार्यलयों के ट्विटर एकाउंट हैक होने के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामले में यूपी सरकार का और पंजाब कांग्रेस का ट्विटर एकाउंट हैक हो गया और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लेकर तमाम ट्वीट कर दिये गये।

पिछले दिनों कई बड़े नेताओं के ट्विटर अकाउंट हैक किए गए थे। वहीं, अब यूपी सरकार (@UPgov)और  पंजाब कांग्रेस (@INCPunjab) का ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया है। इससे पहले शनिवार को भी उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के ऑफिस का ट्विटर अकाउंट (@CMOfficeUP) हैक हुआ था।

हैकर्स ने अकाउंट हैक करने के बाद NFT ट्रेडिंग को लेकर काफी ट्वीट किए हैं। साथ ही कुछ ट्विट्स को पिन किया गया। इसके अलावा हैकर्स ने प्रोफाइल फोटो और कवर फोटो दोनों को ही बदल दी है। 



एलन मस्क Twitter के बोर्ड में नहीं होंगे शामिल

ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल ने बताया, "हमने मंगलवार को घोषणा की थी कि एलन को पृष्ठभूमि की जांच और औपचारिक स्वीकृति पर बोर्ड दल में नियुक्त किया जाएगा। बोर्ड में एलन की नियुक्ति आधिकारिक तौर पर 4/9 से प्रभावी होनी थी, लेकिन एलन ने उसी दिन साझा किया कि वह अब इस बोर्ड में शामिल नहीं होंगे। मेरा मानना है कि यह ठीक भी है।"

सैन फ्रांसिस्को: एक नाटकीय मोड़ लेते हुए ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल ने घोषणा की है कि टेस्ला और स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क कंपनी के बोर्ड में शामिल नहीं होंगे। भारतीय मूल के सीईओ ने पिछले हफ्ते कहा था कि माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ने मस्क को अपने निदेशक मंडल में नियुक्त किया है।

लगभग 3 अरब डॉलर में माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म में 9.2 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करने वाले मस्क ट्विटर के 15 फीसदी से अधिक शेयर नहीं खरीद सकते। रविवार देर रात एक संदेश में अग्रवाल ने कहा कि मस्क ने ट्विटर के बोर्ड में शामिल नहीं होने का फैसला किया है।

अग्रवाल ने बताया, "हमने मंगलवार को घोषणा की थी कि एलन को पृष्ठभूमि की जांच और औपचारिक स्वीकृति पर बोर्ड दल में नियुक्त किया जाएगा। बोर्ड में एलन की नियुक्ति आधिकारिक तौर पर 4/9 से प्रभावी होनी थी, लेकिन एलन ने उसी दिन साझा किया कि वह अब इस बोर्ड में शामिल नहीं होंगे। मेरा मानना है कि यह ठीक भी है।"

उन्होंने कहा, "हमारे पास हमारे शेयरधारकों से इनपुट है और हमेशा रहेगा, चाहे वे हमारे बोर्ड में हों या नहीं। एलन हमारे सबसे बड़े शेयरधारक हैं और हम उनके इनपुट के लिए खुले रहेंगे।"

ट्विटर के बोर्ड में शामिल होने से मस्क कंपनी के 14.9 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी के मालिक नहीं हो सकते थे।

साथ ही, मस्क जिस तरह से विवादास्पद विषयों पर स्वतंत्र रूप से ट्वीट करते हैं, वह निकट भविष्य में ट्विटर को कैच-22 स्थिति में डाल सकता है कि उनके ट्वीट पर कार्रवाई की जाए या नहीं।

अग्रवाल ने कहा, "बोर्ड और मैंने एलन के बोर्ड में शामिल होने के बारे में और सीधे एलन के साथ कई चर्चाएं कीं। हम सहयोग करने और जोखिमों के बारे में स्पष्ट होने के लिए उत्साहित थे।"

उन्होंने कहा, "आगे विकर्षण होंगे, लेकिन हमारे लक्ष्य और प्राथमिकताएं अपरिवर्तित रहती हैं। हम जो निर्णय लेते हैं और हम कैसे अमल करते हैं, वह हमारे हाथों में है, किसी और के नहीं। आइए काम पर ध्यान केंद्रित करें।

घोषणा के बाद से, मस्क ने प्लेटफॉर्म में महत्वपूर्ण बदलाव करने के लिए ट्विटर पर कई पोल साझा किए हैं, जिसमें एक एडिट बटन भी शामिल है।

यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) के साथ एक ताजा फाइलिंग के अनुसार, मस्क 2024 तक द्वितीय श्रेणी के निदेशक के रूप में काम करेंगे।

यह एक प्रकार की स्थिति है जिसका उपयोग अधिग्रहण-विरोधी उपाय के रूप में किया जा सकता है।


22 यू-ट्यूब चैनलों को भारत सरकार ने किया ब्लैक लिस्ट

सरकार के इस कार्रवाई में न केवल यूट्यूब बल्कि 1 फेसबुक, 3 ट्वीटर और एक वेबसाइट पर भी गाज गिराई है।

नई दिल्ली: भारत सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 22 यूट्यूब चैनलों को ब्लॉक कर दिया है। सरकार के इस कार्रवाई में न केवल यूट्यूब बल्कि 1 फेसबुक, 3 ट्वीटर और एक वेबसाइट पर भी गाज गिराई है। मिनिस्ट्री ऑफ इनफॉर्मेशन एंड ब्राडकास्टिंग ने आईटी नियम 2021 के तहत इमरजेंसी पावर का इस्तेमाल करते हुए यह कार्रवाई की है।

ब्लॉक किए गए यूट्यूब चैनल्स के पास करीब 260 करोड़ की व्यूवरशिप है। इन चैनल्स पर भारत की सुरक्षा, विदेश नीति और जनहित से जुड़े मामलों में गलत जानकारी फैलाने का आरोप लगा था। जिस पर कार्रवाई करते हुए केंद्र सरकार ने ब्लॉक किया है।

बता दें कि आईटी नियम 2021 के तहत यह पहला मौका है जब किसी सोशल मीडिया चैनल्स पर कार्रवाई की गई है। इस नियम को लेकर पिछले साल के फरवरी महीने में सरकार की ओर से दिशा-निर्देश जारी किया गया था। इसी के तहत अब 18 भारतीय और 4 पाकिस्तानी यूट्यूब चैनल्स को ब्लॉक किया गया है। ब्लॉक करने से पूर्व इन चैनल्स की जांच में पाया गया कि ये जम्मू कश्मीर और भारतीय सेना के मुद्दे पर फर्जी खबरें फैला रहे थे। वहीं, भारतीय चैनल्स भी रूस-यूक्रेन युद्ध पर गलत जानकारी फैला रहे थे। जिससे भारतीय विदेश नीति पर गलत प्रभाव पड़ रहा था।

मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार एक प्रमाणिक, भरोसेमंद, सुरक्षित ऑनलाइन मीडिया समाचार का वातारण सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है और भारत की संप्रभुता, अखंडता, राष्ट्रीय सुरक्षा  जैसी नीतियों को कमजोर करने के प्रयास को विफल करती है।


Twitter में भी Elon Musk बने हिस्सेदार, जानिए-कितनी फीसदी स्टेक किया अपने नाम

एलन मस्क ने ट्विटर में 9.2 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी है। वहीं ट्विटर इंक की फाइलिंग के अनुसार एलन मस्क ट्विटर के 73,486,938 शेयर के मालिक हो गए हैं। ट्वीटर के शेयर में एलन की हिस्सेदारी होते ही ट्वीटर के शेयर में जबरदस्त उछाल देखा जा रहा है।

नई दिल्ली: दुनिया का सबसे अमीर शख्स टेस्ला के सीईओ एलन मस्क अब ट्वीटर में भी हिस्सेदार हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक एलन मस्क  ट्वीटर के 9.2 फीसदी पैसिव यानी निष्क्रिय स्टेक खरीदा है। पैसिव शेयर को एक तरह से लॉन्ग टर्म शेयर के तौर पर जाना जाता है। कुछ दिनों पहले एलन मस्क ट्वीटर के जैसा ही माइक्रो ब्लॉगिंग साइट खोलने के संकेत दिए थे।

ब्लूमबर्ग न्यूज के मुताबिक एलन मस्क ने ट्विटर में 9.2 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी है। वहीं ट्विटर इंक की फाइलिंग के अनुसार एलन मस्क ट्विटर के 73,486,938 शेयर के मालिक हो गए हैं। ट्वीटर के शेयर में एलन की हिस्सेदारी होते ही ट्वीटर के शेयर में जबरदस्त उछाल देखा जा रहा है। 

खबरों की माने तो एलन पहले ट्वीटर के जैसा ही एक नया सोशल मीडिया ऐप बनाने के संकेत दिए थे। ऐप बनाने की खबरें फैलने पर एलन ने कहा था कि यूजर्स को खुलकर बोलने और लिखने का एक प्लेटफॉर्म चाहिए, जहां वो अपनी बात रख सकें। बता दें कि एलन मस्क ट्विटर पर काफी एक्टिव रहते हैं। वो इससे पहले कई बार ट्विटर की ट्विट करके आलोचना कर चुके हैं। 

ट्वीटर की आलोचना करते हुए मस्क ने कहा था कि, 'ट्विटर वास्तविक सार्वजनिक टाउन स्क्वायर के तौर पर काम करता है और फ्री स्पीच के सिद्धांतों का पालन करने में पूरी तरह से विफल है।'



Twitter को दिल्ली HC ने लगाई लताड़, कहा-'हिंदू देवी-देवताओं को गाली देने पर कार्रवाई क्यों नहीं?

ट्विटर के हिपोक्रेटिक रवैये को देखते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर टिप्पणी करते हुए कहा कि जब ट्विटर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तक का अकॉउंट सस्पेंड कर सकता है तो फिर हिंदू देवी और देवताओं के बारे में जो अभद्र और आपत्तिजनक टिप्पणी करते हैं उन अकॉउंट पर एक्शन क्यों नहीं लेता?

नई दिल्लीः कोरोना काल के बाद से सोशल मीडिया का इस्तेमाल पहले ले बहुत ज्यादा बढ़ गया है। आज कल सोशल मीडिया के द्वारा कुछ विशेष लोगों धार्मिक उन्माद फैलाने का काम किया जा रहा है।

फेसबुक, वाट्सएप, और ट्विटर पर आज कल हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देना एक ट्रेंड सा बन गया है और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इस पर कोई कार्रवाई भी नहीं करते जिसपर वकील आदित्य देशवाल ने कोर्ट में एक याचिका डाली थी जिसमें प्रमुखत: ट्विटर हैंडल एथिस्ट रिपब्लिक का जिक्र है। याचिका में कहा गया है कि तमाम शिकायतों के बावजूद अकॉउंट न तो सस्पेंड हुआ और न ही उसके ऊपर कोई कार्रवाई हुई।

ट्विटर के हिपोक्रेटिक रवैये को देखते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर टिप्पणी करते हुए कहा कि जब ट्विटर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तक का अकॉउंट सस्पेंड कर सकता है तो फिर हिंदू देवी और देवताओं के बारे में जो अभद्र और आपत्तिजनक टिप्पणी करते हैं उन अकॉउंट पर एक्शन क्यों नहीं लेता? 

पिछले साल अदालत ने कहा कि "सोशल मीडिया दिग्गज कंपनी आम जनता की भावनाओं का सम्मान करेगी क्योंकि यह उनसे जुड़ा व्यवसाय कर रही है। न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने ट्विटर के वकील से पूछा, सामग्री हटाई जा रही हैं या नहीं? आपको आम लोगों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि आप बड़े पैमाने पर जनता से जुड़ा व्यवसाय कर रहे हैं। उनकी भावनाओं को उचित महत्व दिया जाना चाहिए।आपको इसे हटा देना चाहिए।" 

मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायमूर्ति नवीन चावला की पीठ ने ‘एथीइस्ट रिपब्लिक’ नाम के अकाउंट द्वारा मां काली पर कथित रूप से बेहूदा पोस्ट करने के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए ट्विटर को निर्देश दिया कि ट्विटर स्पष्ट कि वह अकाउंट को कैसे ब्लॉक करता है। पीठ ने यह भी रेखांकित किया कि इस तरह के उदाहरण हैं, जब लोगों के अकाउंट को सोशल मीडिया मंच पर ब्लॉक किया गया है। पीठ ने यह भी कहा कि अगर इस तरह की घटना किसी और धर्म के साथ हुई होती तो सोशल मीडिया मंच और अधिक सावधान और संवेदनशील होता। 



Elon Musk जल्द लॉंच कर सकते हैं नया Social Media प्लेटफॉर्म, खुद किया कन्फर्म, तैयारियों के बारे में भी बताया

अगर मस्क नए प्लेटफॉर्म बनाने पर काम करते हैं, तो वे उन टेक्नोलॉजी कंपनियों के बढ़ते पोर्टफोलियो में शामिल होंगे, जो खुद को अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थक बताती हैं और जिन्हें उन यूजर्स को लाने की उम्मीद है, जिन्हें लगता है कि उनके विचारों को ट्विटर, मेटा प्लेटफॉर्म के फेसबुक और अल्फाबेट के स्वामित्व वाले गूगल के यूट्यूब पर दबाया गया है।

नई दिल्ली: टेस्ला इंक (Tesla) के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर एलॉन मस्क (Elon Musk) नया सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म विकसित करने पर गंभीर रूप से विचार कर रहे हैं। अरबपति उद्योगपति ने शनिवार को एक ट्वीट करके यह कहा है। दरअसल, मस्क ट्विटर (Twitter) पर एक यूजर का जवाब दे रहे थे, जिसका सवाल था कि क्या वह एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म बनाने पर विचार करेंगे, जिसमें ओपन सोर्स एल्गोरिथम शामिल हो और जो अभिव्यक्ति की आजादी को प्राथमिकता दे और जहां प्रोपेगेंडा कम से कम हो। मस्क ट्विटर के एक एक्टिव यूजर हैं। और वे पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और उसकी नीतियों की आलोचना करते रहे हैं।


उन्होंने कहा है कि कंपनी अभिव्यक्ति की आजादी के सिद्धांतों का पालन करने में असफल रही है और इसलिए लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ कर रही है। इससे एक दिन पहले उन्होंने एक ट्विटर पोल किया था, जिसमें मस्क ने यूजर्स से पूछा था कि क्या वे विश्वास करते हैं कि ट्विटर अभिव्यक्ति की आजादी के सिद्धांत का पालन करता है, जिसमें 70 फीसदी से ज्यादा लोगों ने नहीं वोट किया था। उन्होंने शुक्रवार को कहा था कि इस पोल के नतीजे महत्वपूर्ण होंगे। कृप्या ध्यान से वोट करें।

अगर मस्क नए प्लेटफॉर्म बनाने पर काम करते हैं, तो वे उन टेक्नोलॉजी कंपनियों के बढ़ते पोर्टफोलियो में शामिल होंगे, जो खुद को अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थक बताती हैं और जिन्हें उन यूजर्स को लाने की उम्मीद है, जिन्हें लगता है कि उनके विचारों को ट्विटर, मेटा प्लेटफॉर्म के फेसबुक और अल्फाबेट के स्वामित्व वाले गूगल के यूट्यूब पर दबाया गया है।


सिख फॉर जस्टिस से जुड़े Apps, वेबसाइट, Social Media Account को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने दिया ब्लॉक करने का आदेश

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उसने विदेशी आधारित 'पंजाब पॉलिटिक्स टीवी' के ऐप्स, वेबसाइट और सोशल मीडिया अकाउंट्स को ब्लॉक करने का आदेश दिया है, जिनका एसएफजे के साथ घनिष्ठ संबंध है, जिन्हें गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के तहत गैरकानूनी माना जाता है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

नई दिल्ली: सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने मंगलवार को प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) से जुड़े ऐप्स, वेबसाइट और सोशल मीडिया अकाउंट्स को ब्लॉक करने का आदेश दिया है। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उसने विदेशी आधारित 'पंजाब पॉलिटिक्स टीवी' के ऐप्स, वेबसाइट और सोशल मीडिया अकाउंट्स को ब्लॉक करने का आदेश दिया है, जिनका एसएफजे के साथ घनिष्ठ संबंध है, जिन्हें गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के तहत गैरकानूनी माना जाता है।

इसमें कहा गया, "खुफिया इनपुट पर भरोसा करते हुए कि चैनल राज्य में चल रहे विधानसभा चुनावों के दौरान सार्वजनिक व्यवस्था को बिगाड़ने के लिए ऑनलाइन मीडिया का उपयोग करने का प्रयास कर रहा था, मंत्रालय ने 18 फरवरी को आईटी नियमों के तहत आपातकालीन शक्तियों का इस्तेमाल पंजाब पॉलिटिक्स टीवी के डिजिटल मीडिया संसाधनों को अवरुद्ध करने के लिए किया।"

मंत्रालय ने दावा किया कि अवरुद्ध ऐप्स, वेबसाइट और सोशल मीडिया खातों की सामग्री में सांप्रदायिक वैमनस्य और अलगाववाद को भड़काने की क्षमता है और भारत की संप्रभुता और अखंडता, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए हानिकारक पाए गए।

यह भी देखा गया कि चल रहे चुनावों के दौरान नए ऐप्स और सोशल मीडिया अकाउंट्स को लॉन्च करने का समय आ गया था। भारत सरकार भारत में समग्र सूचना वातावरण को सुरक्षित रखने के लिए सतर्क और प्रतिबद्ध है और भारत की संप्रभुता और अखंडता कमजोर पड़ने की क्षमता वाले किसी भी कार्य को विफल करने के लिए प्रतिबद्ध है।

जनवरी में, मंत्रालय ने 35 यूट्यूब-आधारित समाचार चैनलों और दो वेबसाइटों को अवरुद्ध करने का आदेश दिया था, जो डिजिटल मीडिया पर समन्वित तरीके से भारत के खिलाफ फर्जी समाचार फैलाने में शामिल थे।

पिछले साल दिसंबर में, जब आईटी नियम, 2021 के तहत आपातकालीन शक्तियों का पहली बार उपयोग किया गया था, तब केंद्र ने 20 यूट्यूब चैनलों और दो वेबसाइटों को अवरुद्ध कर दिया था।


भारत सरकार ने 54 चाइनीज ऐप्स को किया बैन, देखिए-प्रतिबंधित हुए ऐप्स की पूरी लिस्ट

इन ऐप्स को पहले भी बैन किया जा चुका था लेकिन ये नए नाम के साथ भारत में चल रहे थे। ये ऐप्स Tencent, Alibaba और NetEase से संबंधित थे। रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकतर ऐप्स 2020 में बैन किए गए ऐप्स का

by न्यूज9इंडिया डेस्क

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने एक बार फिर से चाइनीज ऐप्स पर बड़ा प्रहार करते हुए 54 चाईनीज ऐप्स को बैन कर दिया है। ये ऐप्स भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बन चुके थे। इन ऐप्स को पहले भी बैन किया जा चुका था लेकिन ये नए नाम के साथ भारत में चल रहे थे। ये ऐप्स Tencent, Alibaba और NetEase से संबंधित थे। रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकतर ऐप्स 2020 में बैन किए गए ऐप्स का "रीब्रांडेड या रीक्रिस्टेड अवतार" थे।


ऐप्स प्रतिबंधित करने का आदेश इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने ऐप्स प्रतिबंधित करने का आदेश इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने जारी किया है। मंत्रालय का कहना था कि ये ऐप चीन जैसे विदेशों में भारतीयों के संवेदनशील डेटा को सर्वर पर ट्रांसफर कर रहे थे। IT मंत्रालय ने गूगल प्ले स्टोर से इन एप्लिकेशन को ब्लॉक करने के भी निर्देश दिए हैं। अधिकारी ने बताया, "54 ऐप्स को पहले ही प्लेस्टोर के जरिए भारत में एक्सेस करने से रोक दिया गया है।" ताजा आदेश में सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69ए के तहत की गई है। 

बता दें कि जून 2020 से भारत सरकार 224 से ज्यादा चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंध लगा चुकी है। पहली बार में भारत ने 59 ऐप्स को बैन किया गया था, जिसमें TikTok, Shareit, WeChat, Helo, Likee, UC News, Bigo Live, UC Browser, ES File Explorer, और Mi Community जैसे पॉपुलर नाम शामिल थे। 

एक अधिकारी ने बताया कि अधिकारी ने बताया, "Tencent और अलीबाबा के कई ऐप्स ने ऑनरशिप छिपाने के लिए अपना रूप बदल लिया था। उन्हें हांगकांग या सिंगापुर जैसे देशों से भी होस्ट किया जा रहा है, लेकिन आखिर में डेटा चीनी सर्वर पर जा रहा था। यहां तक ​​कि बाइटडांस के स्वामित्व वाले टिकटॉक और टेनसेंट के वीचैट जैसे ऐप भी उपलब्ध थे। इन ऐप्स को APK फाइल्स जैसे माध्यमों से डाउनलोड करने की सुविधा मिल रही थी और सरकार ने इसका संज्ञान लिया है।"


रिपोर्ट के मुताबिक, Google Play स्