Skip to main content
Follow Us On
Hindi News, India News in Hindi, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi, ताजा ख़बरें, News

जेल में बंद नवजोत सिंह सिद्धू की बिगड़ी तबियत, अस्पताल में किए गए भर्ती

जेल में बंद कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें मेडिकल चेकअप के लिए पटियाला के राजिंद्र अस्पताल लाया गया हैं। फिलहाल अधिक विवरण की प्रतीक्षा है।

पटियाला: जेल में बंद कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें मेडिकल चेकअप के लिए पटियाला के राजिंद्र अस्पताल लाया गया हैं। फिलहाल अधिक विवरण की प्रतीक्षा है।


1988 के रोड रेज मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा सिद्धू को एक साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है जिसके बाद बाद उन्हें 20 मई को उन्हें पटियाला सेंट्रल जेल में रखा गया था। खबर के मुताबिक, सिद्धू ने दावा किया है कि उन्हें गेहूं से एलर्जी है, ऐसे में उन्होंने जेल का खाना खाने से इनकार कर दिया है। सूत्रों के अनुसार सिद्धू जेल की दाल रोटी नहीं खा रहे हैं। वे सिर्फ सलाद खाकर गुजारा कर रहे हैं।

क्रिकेट की दुनिया से राजनीति में आए 58 वर्षीय सिद्धू ने शुक्रवार को अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण किया था, जहां से उन्हें पटियाला जेल भेज दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1988 के ‘रोड रेज’ के एक 34 साल पुराने मामले में सिद्धू को एक साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। सिद्धू को सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है, इसलिए उन्हें कारागार में काम भी करना होगा।



Fire In Guru Nanak Dev Hospital: अमृतसर के गुरु नानक देव अस्पताल में भीषण आगजनी, मरीजों को बाहर निकालने के लिए तोड़ी गईं खिड़कियां

आनन-फानन में अस्पताल की विभिन्न वार्डों में उपचाराधीन 600 से अधिक मरीजों को बाहर निकाला गया।

अमृतसर: ट्रांसफार्मर में धमाका होने की वजह से गुरु नानक देव अस्पताल में आग लगी है। यह ट्रांसफॉमर्स एक्स-रे यूनिट की बैक साइड में रखा था। आग तेजी से फैलती चली गई। आनन-फानन में अस्पताल की विभिन्न वार्डों में उपचाराधीन 600 से अधिक मरीजों को बाहर निकाला गया।

इस दौरान ऑपरेशन थियेटर में डाक्टर मरीज सर्जरी भी कर रहे थे। आग लगने के बाद मरीज में डॉक्टर बाहर निकले। इस घटना में एक कर्मचारी का स्कूटर भी जल गया है। सभी मरीजों को बाहर निकाल कर सड़क पर लाया गया। अस्पताल में फंसे कुछ मरीजों को बाहर निकालने के लिए खिड़कियां भी तोड़ी गई, क्योंकि धुआं बहुत ज्यादा था।


मोहाली रॉकेट अटैक: प्रतिबंधित संगठन 'सिख फॉर जस्टिस' ने ली हमले की जिम्मेदारी, 20 संदिग्धों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

मोहाली के इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर्स के हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस ने असत्यापित वॉयस मैसेज के जरिए ली है।

नई दिल्ली: पंजाब के मोहाली में इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर्स पर हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) ने ली है। मोहाली में सोमवार को पुलिस कार्यालय पर रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड से हमला किया गया था।  पुलिस ने जांच करते हुए इस हमले के तार पाकिस्तान से जुड़े होने की बात सामने आई थी।

अंग्रेजी समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मोहाली के इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर्स के हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस ने असत्यापित वॉयस मैसेज के जरिए ली है। पुलिस के मुताबिक, संगठन सिख फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह के हमले की जिम्मेदारी लेते हुए वॉयस मैसेज को वेरिफाई कर लिया है। मोहाली के एसएसपी के मुताबिक, 'यह मामला सुलझने के बेहद करीब है। इस मामले में 18-20 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।' 

बता दें कि मंगलवार को मोहाली में इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर्स पर रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड से हमले के बाद में हाई अलर्ट जारी कर दिया था। फिलहाल, पुलिस इस हमले की जांच में जुटी हुई है। पुलिस ने मुख्यालय के क्षेत्र में मौजूद तीन मोबाइलटॉवर से 6 हजार से 7 हजार मोबाइल डेटा की जांच कर रहे हैं। पुलिस को शक है कि इस हमले के लिए मारुति स्विफ्ट कार का इस्तेमाल किया गया था । 

मोहाली हमले की जांच को तेजी से बढ़ाते हुए NIA, NSG और सेना ने भवन का निरीक्षण किया। मंगलवार को डीजीपी वीके भावरा ने राज्य के इंटेलिजेंस ऑफिसर्स, एसएसपी सोनी और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि हम जल्द ही मामले को सुलझा लेंगे। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि 'इस मामले में जांच जारी है और सही समय पर जानकारी साझा की जाएगा।'  




मोहाली ब्लास्ट: आरोपी निशान सिंह को पुलिस ने अमृतसर से किया गिरफ्तार, 2 महीने पहले ही जेल से हुआ था रिहा

मोहाली के सेक्टर-77 स्थित पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग के मुख्यालय पर राकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेट (आरपीजी) हमले में फरीदकोट पुलिस ने तरनतारन जिले के गांव कुल्ला निवासी निशान सिंह को गिरफ्तार कर मोहाली पुलिस के हवाले कर दिया है। निशान सिंह की गिरफ्तारी पुलिस के लिए ब्लास्ट कांड में बड़ी कामयाबी है।

अमृतसर: मोहाली के सेक्टर-77 स्थित पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग के मुख्यालय पर राकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेट (आरपीजी) हमले में फरीदकोट पुलिस ने तरनतारन जिले के गांव कुल्ला निवासी निशान सिंह को गिरफ्तार कर मोहाली पुलिस के हवाले कर दिया है। निशान सिंह की गिरफ्तारी पुलिस के लिए ब्लास्ट कांड में बड़ी कामयाबी है।

इस गंभीर मुद्दे पर पंजाब भर की सभी सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर है। ऐसे में फरीदकोट सीआइए स्टाफ भी इस घटना की जांच में शामिल हुआ और अमृतसर से निशान सिंह को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया। प्रारंभिक पूछताछ उपरांत निशान सिंह को फरीदकोट से सीआइए स्टाफ द्वारा मोहाली ले जाया गया है।

निशान सिंह के खिलाफ तरनतारन, अमृतसर, फरीदकोट, मोगा, गुरदासपुर जिले में स्नेचिंग, नशा तस्करी और अन्य अपराधों के मामले दर्ज हैं। निशान सिंह फरीदकोट जेल में भी बंद रहा है। उसके पिछले आपराधिक रिकार्ड के साथ पुलिस को मिले कुछ और इनपुट के आधार पर सीआइए फरीदकोट द्वारा निशान सिंह को अमृतसर से गिरफ्तार किया गया है।

सीमावर्ती गांव कुल्ला निवासी परगट सिंह का निशान सिंह हाल ही में गोइंदवाल साहिब की जेल से रिहा होकर गांव आया था। थाना कच्चा पक्का में आते गांव कुल्ला निवासी 26 वर्षीय निशान सिंह के खिलाफ अपराधिक मामले पहले से ही दर्ज हैं। उसका संबंध खालिस्तानी समर्थकों के साथ कब से है। यह पता लगाने लिए खुफिया एजेंसियों के अधिकारियों की टीम गांव पहुंचीं।


Punjab News : मोहाली में इंटेलिजेंस विंग के हेडक्वार्टर पर रॉकेट से हमला, कैप्टन ने की सख्त कार्यवायी की मांग, NIA को जांच सौंपने की तैयारी

शुरुआती जांच में पता चला है कि सफ़ेद रंग की कार में आए कुछ लोगों ने RPG फ़ायर किया है। इसे रॉकेट लॉन्चर के जरिए कंधे पर रखकर दागा जाता है।

मोहाली:  पंजाब (Punjab) के मोहाली (Mohali) में इंटेलिजेंस विंग के हेडक्वार्टर (Intelligence Wing headquarter) पर कल देर शाम हुए हमले की जांच एनआईए (NIA) कर सकती है। 

मोहाली के सेक्टर 77 में  इंटेलिजेंस विंग हेडक्वार्टर की बिल्डिंग की एक फ्लोर को निशाना बनाकर हमला किया गया। हालांकि इस हमले में जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। फॉरेंसिक टीम पूरी रात घटनास्थल से सैंपल जुटाती रही। 

हमले में RPG (Rocket Propelled Grenade) के इस्तेमाल ने सबको हैरान कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक शुरुआती जांच में पता चला है कि सफ़ेद रंग की कार में आए कुछ लोगों ने RPG फ़ायर किया है। इसे रॉकेट लॉन्चर के जरिए कंधे पर रखकर दागा जाता है।  

ब्लास्ट की घटना के बाद पंजाब पुलिस (Punjab Police) के बड़े अधिकारियों ने भी मौके पर मुआयना किया है। हालंकि पंजाब पुलिस ने इस आतंकी हमला मानने से इनकार नहीं किया है। मोहाली के एसपी का कहना है कि वो इस बात की जांच कर रहे हैं कि यह आतंकी हमला है या नहीं। उधर, मुख्यमंत्री भगवंत मान ने पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी है।


पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विस्फोट पर हैरानी व्यक्त की और मुख्यमंत्री भगवंत मान से इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आग्रह किया।  अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, ''मोहाली में पंजाब पुलिस के खुफिया मुख्यालय में विस्फोट के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं। गनीमत रही कि किसी को चोट नहीं आई। हमारे पुलिस बल पर यह हमला बेहद चिंताजनक है और मैं मुख्यमंत्री भगवंत मान से आग्रह करता हूं कि अपराधियों को जल्द से जल्द न्याय के कटघरे में लाया जाए।'' 

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि वह विस्फोट से स्तब्ध हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ''पंजाब पुलिस के खुफिया ब्यूरो मुख्यालय, मोहाली में हुए विस्फोट से स्तब्ध हूं। इससे गंभीर सुरक्षा चूक और पंजाब में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति एक बार फिर उजागर हो गई है। जिम्मेदार लोगों को बेनकाब करने और दंडित करने के लिए गहन जांच की आवश्यकता है।'' 

वहीं, शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि वह विस्फोट से स्तब्ध हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ''पंजाब पुलिस के खुफिया ब्यूरो मुख्यालय, मोहाली में हुए विस्फोट से स्तब्ध हूं। इससे गंभीर सुरक्षा चूक और पंजाब में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति एक बार फिर उजागर हो गई है। जिम्मेदार लोगों को बेनकाब करने और दंडित करने के लिए गहन जांच की आवश्यकता है।'' 


पाकिस्तान की नापाक हरकतें अभी भी हैं जारी, पंजाब में ड्रोन से भेजी जा रही थी 74 करोड़ की हेरोइन, BSF ने मार गिराया

रविवार मध्य रात के समय बीएसएफ के जवानों अपने गश्त कर रहे थे तभी जवानों को सीमा के पास एक ड्रोन नजर आया जिसे पाक से भेजा गया था। जिसके बाद जवानों ने फायरिंग कर ड्रोन को गिराने में सफलता हासिल की। उसी समय जवानों ने तत्परता दिखाते हुए पास के खेत में गिरे ड्रोन को उठा लाए।

नई दिल्ली:  पंजाब के अमृतसर में रविवार रात सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी तस्करों की बड़ी कोशिश को नाकाम कर दिया। पाकिस्तानी तस्करों ने भारत की सीमा में ड्रोन के सहारे नशीली दवाओं को पहुंचाने की कोशिश की जिसे देखते ही सीमा सुरक्षाल बलों के जवानों ने मार गिराया। ड्रोन की तलाशी के दौरान बीएसएफ के जवानों को तस्करी के लिए भेजी गई हेरोइन को भी जब्त कर लिया गया जिसकी कीमत 74 करोड़ रूपये के करीब बताई जा रही है। सीमा सुरक्षा बलों को यह सफलता अमृतसर सेक्टर में मिली है।

 रविवार मध्य रात के समय बीएसएफ के जवानों अपने गश्त कर रहे थे तभी जवानों को सीमा के पास एक ड्रोन नजर आया जिसे पाक से भेजा गया था। जिसके बाद जवानों ने फायरिंग कर ड्रोन को गिराने में सफलता हासिल की। उसी समय जवानों ने तत्परता दिखाते हुए पास के खेत में गिरे ड्रोन को उठा लाए। 

सीमा सुरक्षाबलों को जो ड्रोन मिला है वह चाइना मेड क्वाडकॉप्टर डीजेआई मैट्रिस-300 है। जिसे पाकिस्तान से ऑपरेट किया जा रहा था। ड्रोन की मदद से भारत में तस्करी कर हेरोइन को पहुंचाने के काम को अंजाम दिया जाना था लेकिन बीएसएफ के जवानों नने तस्करों के मनसूबे पर पानी फेर दिया। ड्रोन को मार गिराने के बाद जवानों ने घटना की सूचना अपने अधिकारियों को दी। 

सूचना मिलने पर बीएसएफ के अधिकारी ने जब बैग को खोला तो उसमें एक बोरी मिली। जिसे खोलने के बाद उसमें पीले रंग के टेप में 9 पैकेट बंधे हुए थे। BSF ने पैकेट की जांच किया तो उसमें 10.670 किलो ग्राम हेरोइन बरामद हुई। इसकी अंतरराष्ट्रीय बादार में कीमत 74 करोड़ के करीब बताया जा रहा है। 

गौरतलब है कि पंजाब के रास्ते बीते एक साल में सबसे अधिक तस्करी जारी है। वह भी मामला उस समय से और बढ़ गया जब पड़ोसी देश अफगानिस्तान में तालिबान का शासन हो गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ दो महीने में अप्रैल और मई महीने में  BSF की तरफ से पकड़ी गई 12 वीं खेप है। इससे पहले 5 मई को भी बीएसएफ ने खेतों में गिरी 510 ग्राम हेरोइन बरामद किया था। इतना ही नहीं आज पकड़ी गई यह खेप पिछली सभी बरामदगी से बड़ी हैं। 



पहले की तारीफ और आज CM मान से मुलाकात करेंगे सिद्धू, कई मुद्दों पर करेंगे चर्चा, आखिर चल क्या रहा है?

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि वह राज्य की अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार पर चर्चा करने के लिए सोमवार को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से मिलेंगे।

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि वह राज्य की अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार पर चर्चा करने के लिए सोमवार को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से मिलेंगे। 


उन्होंने सीएम को "छोटा भाई" और "ईमानदार व्यक्ति" कहा। यह विकास सिद्धू के राज्य में आप के नेतृत्व वाली सरकार पर कानून और व्यवस्था की स्थिति सहित विभिन्न मुद्दों पर हमलों के बाद आता है।


सिद्धू ने रविवार को एक ट्वीट में कहा, "पंजाब की अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार के मामलों पर चर्चा करने के लिए कल शाम 5:15 बजे चंडीगढ़ में सीएम भगवंत मान से मुलाकात करूंगा। पंजाब का पुनरुत्थान एक ईमानदार सामूहिक प्रयास से ही संभव है।"


सिद्धू ने 22 अप्रैल को कहा था कि राज्य में व्याप्त "माफिया राज" के कारण पार्टी पंजाब चुनाव हार गई थी और अब उसे खुद को फिर से बदलने की जरूरत है, और मान की "छोटे भाई" और "ईमानदार व्यक्ति" के रूप में प्रशंसा की।


सिद्धू ने कहा था कि वह मान का समर्थन करेंगे (जिनकी आम आदमी पार्टी ने हाल के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को मात दी थी) अगर वह माफिया के खिलाफ लड़ते हैं। विशेष रूप से, पंजाब मामलों के एआईसीसी प्रभारी हरीश चौधरी ने भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर सिद्धू के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की थी, जो "खुद को पार्टी से ऊपर दिखाने की कोशिश कर रहे थे।"


बग्गा पर एक्शन का रिएक्शन: पंजाब में AAP विधायक के घर CBI ने की छापेमारी, नगदी और आपत्तिजनक चीजें बरामद

सीबीआई द्वारा अलग-अलग लोगों द्वारा हस्ताक्षरित 90 खाली (ब्लैंक) चेक, 16.57 लाख रुपये की नकदी, लगभग 88 विदेशी मुद्रा के नोट, कुछ संपत्ति के कागजात और अन्य आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए।

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में पंजाब के मलेरकोटला में आप विधायक जसवंत सिंह और उनके परिवार के सदस्यों के कई ठिकानों पर छापेमारी की है।

सीबीआई द्वारा अलग-अलग लोगों द्वारा हस्ताक्षरित 90 खाली (ब्लैंक) चेक, 16.57 लाख रुपये की नकदी, लगभग 88 विदेशी मुद्रा के नोट, कुछ संपत्ति के कागजात और अन्य आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए।

सीबीआई ने बलवंत सिंह, जसवंत सिंह, कुलवंत सिंह, तेजिंदर सिंह और एक प्राइवेट फर्म तारा हेल्थ फूड्स लिमिटेड के ठिकानों पर छापेमारी की।

बैंक ऑफ इंडिया, लुधियाना की शिकायत पर तारा कॉर्पोरेशन लिमिटेड (जिसका नाम बदलकर मलौध एग्रो लिमिटेड रखा गया), गौंसपुरा, मलेरकोटला और निजी कंपनी के तत्कालीन निदेशकों और गारंटर, एक अन्य निजी फर्म, अज्ञात लोक सेवक और निजी व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद तलाशी ली गई है।

उधारकर्ता फर्म को बैंक द्वारा 2011-2014 से चार अंतरालों पर ऋण स्वीकृत किया गया था।  फर्म ने अपने निदेशकों के माध्यम से गिरवी रखे स्टॉक को छुपाया था और ऋणों को दुर्भावनापूर्ण और बेईमान इरादे से डायवर्ट किया था, ताकि उन्हें लेनदार बैंक को निरीक्षण और सुरक्षित लेनदार के रूप में वसूली के लिए उपलब्ध नहीं कराया जा सके।

इससे बैंक को 40.92 करोड़ रुपये का कथित नुकसान हुआ। खाते को 31 मार्च 2014 को एनपीए के रूप में वर्गीकृत किया गया था और विसंगतियों के आधार पर, खाते को 2 सितंबर, 2018 को 40.92 करोड़ रुपये की बकाया राशि के साथ धोखाधड़ी के रूप में घोषित किया गया था।

यह भी आरोप लगाया गया है कि आरोपी द्वारा लिए गए ऋण का उपयोग उसी उद्देश्य के लिए किया गया था, जिसके लिए इसे स्वीकृत किया गया था।


पटियाला हिंसा: पुलिस ने मास्टरमाइंड बरजिंदर सिंह परवान को किया गिरफ्तार, खालिस्तान का है कट्टर समर्थक, आज कोर्ट में पेशी

पुलिस के मुताबिक 29 अप्रैल को काली माता मंदिर के पास हुई हिंसा की पूरी साजिश इसी ने रची थी। बता दें कि पटियाला हिंसा के मुख्य आरोपी खालिस्तान समर्थक बरजिंदर सिंह परवाना ने 24 अप्रैल के फेसबुक लाइव में इसे धर्म की लड़ाई करार दिया था।

पटियाला: पटियाला में हुई हिंसा का मास्टरमाइंड बरजिंदर सिंह परवाना को गिरफ्तार कर लिया गया है। जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने उसे आज सुबह मोहाली एयरपोर्ट के पास से दबोचा है। परवाना को कट्टर खालिस्तानी समर्थक माना जाता है। उस पर पहले भी 6 केस दर्ज है।


पुलिस के मुताबिक 29 अप्रैल को काली माता मंदिर के पास हुई हिंसा की पूरी साजिश इसी ने रची थी। बता दें कि पटियाला हिंसा के मुख्य आरोपी खालिस्तान समर्थक बरजिंदर सिंह परवाना ने 24 अप्रैल के फेसबुक लाइव में इसे धर्म की लड़ाई करार दिया था। परवाना ने अपने लाइव में लोगों से अपील की थी कि 29 अप्रैल की तैयारी कर लें। इसके अलावा अपने साथ शस्त्र लाने के लिए भी कहा था। 


अपने लाइव के दौरान उसने कहा था कि 29 तारीख को सबको अपनी तैयारी रखनी है, छोटा भाई समझ लो या बड़ा भाई... फोन से सबको नहीं बताया जा सकता लेकिन 29 तारीख की तैयारी सबको रखनी है... अगर कुछ होता है तो 29 की तैयारी सबको रखनी है, फुल तैयारी... श्री दुखनिवारण गुरुद्वारा साहिब पर इकट्ठा होना है...26 अप्रैल या 27 को कन्फर्म कर दूंगा.. लेकिन तय्यारी रखो सब.. जो भी शस्त्र हो उन्हें भी ले आओ।


पटियाला बवाल: CM भगवंत मान ने किया 3 पुलिस अधिकारियों का किया तबादला, ऐतिहातन तौर पर इंटरनेट सेवा की गई बंद

हालात की गंभीरता के मद्देनजर राज्य सरकार ने शहर में अस्थाई रूप से मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद करने का फैसला लिया है। फिलहाल, मामले में 4 FIR दर्ज हो गई हैं। वहीं, हिंसा के विरोध में कई संगठनों ने शहर बंद का आह्वन किया है।

पटियाला: पंजाब के पटियाला में जुलूस के दौरान हुई हिंसा के मामले में सूबे के सीएम भगवंत मान ने तीन पुलिसकर्मियों पर गाज गिराते हुए उनके तबादले कर दिए हैं। पंजाब के पटियाला में शुक्रवार को हुई हिंसा के बाद तनाव जारी है। हालात की गंभीरता के मद्देनजर राज्य सरकार ने शहर में अस्थाई रूप से मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद करने का फैसला लिया है। फिलहाल, मामले में 4 FIR दर्ज हो गई हैं। वहीं, हिंसा के विरोध में कई संगठनों ने शहर बंद का आह्वन किया है। पटियाला में खलिस्तान विरोधी रैली के दौरान काली मंदिर के बाहर दो समूहों में झड़प हो गई थी। इस घटना में दो पुलिसकर्मी समेत 4 लोग घायल हो गए थे।



पटियाला उपायुक्त ने शहर की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने बताया कि एहतियात के तौर पर सुबह 9.30 से लेकर शाम 6 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। उन्होंने जानकारी दी कि घटना को लेकर FIR दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस लगातार छापामार कार्रवाई कर रही है। पटियाला एसएसपी नानक सिंह ने किसी भी गलत जानकारी पर भरोसा नहीं करने के लिए कहा है।

इससे पहले भी पुलिस ने जिले में 11 घंटे का कर्फ्यू लगा दिया था। घटना के एक दिन बाद ही पटियाला आईजी राकेश अग्रवाल के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। पटियाला बंद के आह्वान के बीच सिंह ने अखिल भारतीय सुरक्षा समिति के प्रमुख गिरि जी से मुलाकात की है। हिंदू संगठन लगातार घटना का विरोध कर रहे हैं और उन्होंने 'खालिस्तान समर्थकों' को गिरफ्तार करने की मांग की है।


पंजाब: पटियाला में जुलूस के दौरान बड़ा बवाल, पुलिस पर पथराव, तलवारबाजी की भी खबर, 4 जवान घायल

दो संगठनों में जुलूस निकालने को लेकर तनाव के बाद बवाल हो गया है। जानकारी के मुताबिक, पटियाला में दो संगठनों की पुलिस (Punjab Police) से झड़प हो गई है। जिसमें पत्थरबाजी और तलवारबाजी होने की भी खबर है। अभी तक की खबर के अनुसार, इस घटना में पुलिस (Punjab Police) के तीन-चार जवान घायल हो गए हैं।

पटियाला: पंजाब के पटियाला से बड़ी खबर सामने आई है। यहां दो संगठनों में जुलूस निकालने को लेकर तनाव के बाद बवाल हो गया है। जानकारी के मुताबिक, पटियाला में दो संगठनों की पुलिस (Punjab Police) से झड़प हो गई है। जिसमें पत्थरबाजी और तलवारबाजी होने की भी खबर है। अभी तक की खबर के अनुसार, इस घटना में पुलिस (Punjab Police) के तीन-चार जवान घायल हो गए हैं।

पटियाला में एक समुदाय के जुलूस को रोकने पर लोगों ने पुलिस (Punjab Police) पर पथराव कर दिया। वहीं, दूसरे समुदाय के जुलूस के दौरान पुलिस (Punjab Police) कर्मियों पर तलवार से हमला किया है। दोनों ही सुमदाय के जुलूस फ़व्वारा चौक की ओर जाने के लिए पुलिस (Punjab Police) से भिड़ गए। जब पुलिस (Punjab Police) ने इन्हें रोकना चाहा तो पुलिस (Punjab Police) पर हमला कर दिया गया। इस संबंध में पुलिस (Punjab Police) का कहना है दोनों ही संगठनों के पास जुलूस निकालने की अनुमति नहीं थी। इस घटना में एक एसएचओ के चोटिल होने की खबर है।

दरअसल, दो गुट के लोग जुलूस निकाल रहे थे। पुलिस (Punjab Police) ने पहले ही इन दोनों संगठनों के जुलूस को एक ही रास्ते पर आने से पहले रोक लिया। उसी से नाराज दोनों संगठनों के लोगों ने गुस्सा उतारते हुए पुलिस (Punjab Police) बल पर हमला बोल दिया। तनाव की स्थिति को देखते हुए इलाके में पुलिस (Punjab Police) बल को और बढ़ा दिया गया है। इस बड़ी घटना को रोकने में पुलिस (Punjab Police)कर्मियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।


पंजाब के CM भगवंत मान पंजाब में जल्द करेंगे फ्री बिजली योजना का एलान

सूत्रों के मुताबिक पंजाब में जल्दी ही 'केजरीवाल की पहली गारंटी' 300 यूनिट मुफ्त बिजली का ऐलान हो सकता है। आप की ओर से पंजाब में 300 यूनिट बिजली फ्री करने के लिए मिशन मोड में तैयारी चल रही है। इससे पहले सोमवार को मान ने पंजाब के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी। केजरीवाल से मुलाकात के बाद भगवंत मान पंजाब में भी 300 यूनिट फ्री बिजली योजना को अमलीजामा पहना सकते हैं।

चंडीगढ़: आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से मुलाकात करेंगे। इसके बाद आप संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात कर मुफ्त बिजली योजना पर चर्चा करेंगे। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान मंगलवार दोपहर तीन बजे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात करेंगे।

सूत्रों के मुताबिक पंजाब में जल्दी ही 'केजरीवाल की पहली गारंटी' 300 यूनिट मुफ्त बिजली का ऐलान हो सकता है। आप की ओर से पंजाब में 300 यूनिट बिजली फ्री करने के लिए मिशन मोड में तैयारी चल रही है। इससे पहले सोमवार को मान ने पंजाब के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी। केजरीवाल से मुलाकात के बाद भगवंत मान पंजाब में भी 300 यूनिट फ्री बिजली योजना को अमलीजामा पहना सकते हैं।

हालांकि पंजाब में आप सरकार बनने के बाद से ही कांग्रेस आरोप लगा रही है कि सीएम भगवंत मान की सरकार को दिल्ली से 'कंट्रोल' किया जा रहा है। कांग्रेस लगातार यह दावा कर रही है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, पंजाब की सरकार पर नियंत्रण रखे हुए हैं और इसी वजह से सरकार स्वतंत्रता से काम नहीं कर पा रही है।

दरअसल कांग्रेस की पंजाब इकाई के नवनियुक्त अध्यक्ष अमरिंदर सिंह बराड़ ने दावा किया कि सीएम भगवंत मान और विद्युत मंत्री हरभजन की गैरमौजूदगी में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने बैठक की। इस बैठक में विद्युत सचिव दलीप कुमार और दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन और भी मौजूद थे। ऐसे में एक फिर भगवंत मान दिल्ली पहुंचकर पंजाब सरकार की ओर से लागू की जाने वाली नीतियों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल से चर्चा करेंगे। जिसके बाद ही पार्टी की ओर से अंतिम निर्णय लिया जाएगा।


अमरिंदर सिंह बराड़ को मिली पंजाब कांग्रेस की कमान

पंजाब विधानसभा चुनावों में करारी हार के बाद नवजोत सिंह सिद्धू से पंजाब प्रदेश अध्यक्ष से इस्तीफा ले लिया गया था। इसके रविवार को पार्टी ने राज्य इकाई में प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही कांग्रेस विधायक दल के नेता और उपनेता के नाम भी फाइनल कर दिया है।

चंडीगढ़: पंजाब में कांग्रेस ने अपना नया अध्यक्ष नियुक्त कर दिया है। विधानसभा चुनावों में बड़ी हार के बाद पार्टी ने राज्य की इकाई में बदलाव करते हुए राजा बराड़ को नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। 


पंजाब विधानसभा चुनावों में करारी हार के बाद नवजोत सिंह सिद्धू से पंजाब प्रदेश अध्यक्ष से इस्तीफा ले लिया गया था। इसके रविवार को पार्टी ने राज्य इकाई में प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही कांग्रेस विधायक दल के नेता और उपनेता के नाम भी फाइनल कर दिया है।

कांग्रेस ने पार्टी नेता अमरिंदर सिंह बराड़ उर्फ राजा वाडिंग को नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है, जोकि यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। पार्टी हाईकमान ने प्रताप सिंह बाजवा को राज्य में नेता विपक्ष (सीएलपी) बनाया गया है और भारत भूषण आशु को प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है। पंजाब चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था। तब से यह पद खाली था।

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से शनिवार को पत्र जारी किया गया। इसमें पंजाब अध्यक्ष व सीएलपी नेता के अलावा दो ओर नियुक्तियां की गई हैं। पंजाब कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष के पद पर भारत भूषण आशू को नियुक्त किया गया है। जबकि कांग्रेस विधायक दल के उपनेता की जिम्मेदारी डॉ. राज कुमार को दी गई है।


एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स की गठन करेगी पंजाब की AAP सरकार

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने मंगलवार को पंजाब के डीजीपी वी. के. भवरा को एक एडीजीपी-रैंक के अधिकारी की अध्यक्षता में एक एंटी-गैंगस्टर टास्क फोर्स (एजीटीएफ) की स्थापना करने का निर्देश दिया। सीएम मान ने राज्य भर में सक्रिय गैंगस्टर के नेटवर्क का सफाया करने के लिए यह फैसला लिया है, ताकि नागरिकों में सुरक्षा की भावना पैदा की जा सके।

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने मंगलवार को पंजाब के डीजीपी वी. के. भवरा को एक एडीजीपी-रैंक के अधिकारी की अध्यक्षता में एक एंटी-गैंगस्टर टास्क फोर्स (एजीटीएफ) की स्थापना करने का निर्देश दिया। सीएम मान ने राज्य भर में सक्रिय गैंगस्टर के नेटवर्क का सफाया करने के लिए यह फैसला लिया है, ताकि नागरिकों में सुरक्षा की भावना पैदा की जा सके।

एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए, मान ने संगठित अपराध के उन्मूलन की आवश्यकता पर जोर दिया। इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि पुलिस तंत्र में लोगों के विश्वास को बहाल करने के लिए कानून और व्यवस्था सुनिश्चित करना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

पंजाब में हाल के दिनों में कबड्डी मैचों के दौरान प्रसिद्ध खिलाड़ियों की हत्या, राजनीतिक कार्यकर्ताओं के बीच रंजिश के चलते हत्या की घटनाएं और गैंगवार के कई मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही पंजाब में नशीले पदार्थों का व्यापार भी लंबे समय से चलन में रहा है। इस नापाक गठजोड़ को तोड़ने के लिए पुलिस बल को पर्याप्त धन के अलावा सभी आवश्यक जनशक्ति, नवीनतम उपकरण और सूचना प्रौद्योगिकी का आश्वासन दिया गया है।

आगे की ओर इशारा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि एजीटीएफ के पास देश में इसी तरह की विशेष इकाइयों की तर्ज पर खुफिया जानकारी का संग्रह, संचालन और एफआईआर के पंजीकरण, जांच और अभियोजन का एकीकृत संग्रह होगा।

पुलिस आयुक्तों और एसएसपी को संगठित अपराधों के खिलाफ समन्वित प्रयास करने का निर्देश देते हुए मान ने कहा कि संगठित अपराध पर राज्यव्यापी अधिकार क्षेत्र वाले नए पुलिस थानों को जल्द ही अधिसूचित किया जाएगा, ताकि गैंगस्टरों द्वारा लोगों के मन में फैलाए गए आतंक और डर को दूर किया जा सके।

मान ने स्पष्ट रूप से कहा कि उन्होंने जेल विभाग को विभिन्न जेलों में बंद गैंगस्टरों की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया है और इस संबंध में किसी भी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

संगरूर जिले में अपराध दर में भारी कमी लाने के लिए अपने व्यक्तिगत अनुभव को साझा करते हुए, मान ने कहा कि एक सांसद के रूप में, उन्होंने अपने एमपी-लैड फंड से जिले के प्रमुख शहरों में स्थानीय पुलिस स्टेशनों से जुड़े वाई-फाई सीसीटीवी कैमरे लगाने की पहल की है।

मान ने कहा, "इस परियोजना के तहत मामूली लागत पर उच्च-रिजॉल्यूशन कैमरे लगाए गए थे, जिससे चौबीसों घंटे निगरानी की जा सकती है और आम जनता में सुरक्षा की भावना पैदा हुई है।"

प्रतिदिन घातक सड़क हादसों में कई कीमती जानें जाने पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए मान ने कहा कि इन हादसों में 5,500 से अधिक लोगों की जान चली जाती है, इसके अलावा लगभग 1.5 लाख लोग इस वजह से घायल होते हैं।

उन्होंने डीजीपी को सड़क पर गश्त करने वाली पुलिस की एक अलग शाखा बनाने के लिए एक व्यापक प्रस्ताव लाने के लिए कहा, जो ट्रैफिक जाम को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए समर्पित हो। इसके साथ ही दुर्घटना पीड़ितों को समय पर चिकित्सा सहायता सुनिश्चित करने पर भी जोर दिया गया है, ताकि मानव जीवन को बचाया जा सके।

उन्होंने कहा कि प्रसिद्ध टीवी हस्ती जसपाल भट्टी की सड़क दुर्घटना में मृत्यु के बाद 136 ब्लैक स्पॉट की पहचान की गई थी, लेकिन दुर्भाग्य से जमीनी स्तर पर कुछ भी ठोस नहीं किया गया।

उन्होंने हर पुलिस वाहन में एक प्राथमिक चिकित्सा किट रखने की आवश्यकता पर भी जोर दिया ताकि सड़क पर किसी भी घायल को चिकित्सा सहायता दी जा सके।

मान ने फील्ड और मुख्यालय में तैनात सभी पुलिस अधिकारियों को अनुशासन बनाए रखने के लिए भी कहा ताकि लोगों का विश्वास जीता जा सके।

उन्होंने कहा कि ये चीजें अंतत: पुलिस बल को अपनी छवि सुधारने में मदद करेंगे।

इससे पहले मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए, डीजीपी भवरा ने उन्हें आश्वासन दिया कि पूरा पुलिस बल आम जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए पूरी निष्ठा, ईमानदारी और पेशेवर प्रतिबद्धता के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करेगा।

विशेष रूप से साइबर अपराधों के मद्देनजर कानून व्यवस्था की उभरती चुनौतियों का सामना करने को लेकर विशेष डीजीपी (इंटेलिजेंस) प्रबोध कुमार द्वारा पुलिस विभाग की विभिन्न मांगों का उल्लेख करने के बाद, मुख्य सचिव अनिरुद्ध तिवारी ने बताया कि पहले से ही इस दिशा में काम किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने डीजीपी को पूरा प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजने को कहा, ताकि राज्य के वार्षिक बजट में अपेक्षित बजट आवंटन किया जा सके।


पंजाब विधानसभा में चंडीगढ़ पर 'पूर्ण नियंत्रण' को लेकर केंद्र के खिलाफ प्रस्ताव पास

उन्होंने कहा, "तब से पंजाब और हरियाणा राज्य के नामांकित व्यक्तियों को कुछ अनुपात में प्रबंधन पदों को देकर भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड जैसी सामान्य संपत्ति के प्रशासन में एक संतुलन का उल्लेख किया गया था। अपनी कई हालिया कार्रवाइयों के माध्यम से केंद्र सरकार इस संतुलन को बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है।"

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Maan) ने आज विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश किया, जिसमें केंद्र सरकार पर केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासन में संतुलन को बिगाड़ने की कोशिश करने का आरोप लगाया। साथ ही चंडीगढ़ को तुरंत पंजाब स्थानांतरित करने की मांग की गई। 

मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के दो सप्ताह बाद भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Maan) ने चंडीगढ़ को अपने कंट्रोल में लेने के लिए बड़ा कदम उठाया है। आपको बता दें कि चंडीगढ़ केंद्र शासित प्रदेश होने के साथ-साथ पंजाब और पड़ोसी हरियाणा दोनों की ही राजधानी है। 

केंद्र सरकार चंडीगढ़ प्रशासन के कर्मचारियों के लिए सेवा नियमों में बदलाव कर रहा है। इससे केंद्र सरकार के अधिकारियों की तरह चंडीगढ़ प्रशासन के कर्मचारियों को भी लाभ मिल रहा है।

विधानसभा से पास अपने प्रस्ताव में भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Maan) ने कहा है कि पंजाब पुनर्गठन अधिनियम 1966 के तहत पंजाब को हरियाणा राज्य में पुनर्गठित किया गया था। केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ और पंजाब के कुछ हिस्सों को तत्कालीन केंद्र शासित प्रदेश हिमाचल प्रदेश को दे दिया गया था। उन्होंने कहा, "तब से पंजाब और हरियाणा राज्य के नामांकित व्यक्तियों को कुछ अनुपात में प्रबंधन पदों को देकर भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड जैसी सामान्य संपत्ति के प्रशासन में एक संतुलन का उल्लेख किया गया था। अपनी कई हालिया कार्रवाइयों के माध्यम से केंद्र सरकार इस संतुलन को बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है।" 

मुख्यमंत्री ने बताया, "चंडीगढ़ प्रशासन हमेशा पंजाब और हरियाणा के अधिकारियों द्वारा 60:40 के अनुपात में प्रबंधित किया गया है। हालांकि, हाल ही में केंद्र सरकार ने चंडीगढ़ में बाहरी अधिकारियों को तैनात किया है और चंडीगढ़ प्रशासन के कर्मचारियों के लिए केंद्रीय सिविल सेवा नियम पेश किए हैं, जो कि पूरी तरह से अतीत में हुए समझौतों के खिलाफ है।"



पंजाब: भगवंत मान ने निजी स्कूलों पर कसी नकेल, नहीं बढ़ा सकेंगे फीस, अभिभावकों को बड़ी राहत

उन्होंने कहा कि वह भी एक अध्यापक के बेटे हैं, इसलिए शिक्षा को लेकर वे आज दो बड़े फैसले ले रहा हूं। पहला राज्य के निजी स्कूल इस सत्र में अपना एडमिशन फीस नहीं बढ़ाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि अब कोई भी प्राइवेट स्कूल अभिभावकों को किसी खास दुकान पर जाकर यूनिफॉर्म और किताबें खरीदने के लिए नहीं कहेगा।

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने बुधवार को शिक्षा के क्षेत्र में दो बड़े फैसले लिये हैं। मुख्यमंत्री ने इस सत्र में निजी स्कूलों के फीस बढ़ाने पर पाबंदी लगा दी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोई भी स्कूल किसी खास दुकान से बुक और ड्रेस खरीदने के लिए नहीं कहेगा।

उन्होंने कहा कि बच्चों के माता-पिता किसी भी दुकान से अपनी सहूलियत के हिसाब से किताबें और ड्रेस खरीद सकते हैं। सरकार का यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा। फैसले का ऐलान करते हुए भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने कहा कि शिक्षा का अधिकार हर किसी के लिए बराबर है।

उन्होंने कहा कि वह भी एक अध्यापक के बेटे हैं, इसलिए शिक्षा को लेकर वे आज दो बड़े फैसले ले रहा हूं। पहला राज्य के निजी स्कूल इस सत्र में अपना एडमिशन फीस नहीं बढ़ाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि अब कोई भी प्राइवेट स्कूल अभिभावकों को किसी खास दुकान पर जाकर यूनिफॉर्म और किताबें खरीदने के लिए नहीं कहेगा।

एक दिन पहले पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने कहा था कि स्कूल एवं कॉलेज शिक्षक अब से सिर्फ शिक्षण कार्य पर ध्यान केंद्रित करेंगे और उन्हें इसके अतिरिक्त कोई और काम नहीं सौंपा जाएगा। साथ में मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने उनके लंबित मुद्दों के जल्द समाधान का भी वादा किया।

भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने एक ‘गारंटी’ देते हुए कहा कि पंजाबी विश्वविद्यालय को उसके कर्ज से निजात दिलाई जाएगी ताकि वह उत्तर भारत में उच्च शिक्षा के लिए एक बेहतरीन संस्थान के तौर पर अपनी प्रतिष्ठा फिर से हासिल कर सके। मालूम हो कि मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) कई बड़े और अहम फैसले ले चुके हैं।

इससे पहले भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने सोमवार को भी बड़ा ऐलान किया था। उन्होंने दिल्ली की तर्ज पर पंजाब में भी डोर टू डोर राशन की डिलीवरी का ऐलान किया था।


पंजाब की AAP सरकार 35,000 कर्मचारियों को करेगी नियमित

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (CM Bhagwant Man) ने मंगलवार को घोषणा की कि सरकारी विभागों में ग्रुप 'सी' और 'डी' के 35,000 संविदा और आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की सेवाओं को नियमित किया जाएगा।

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (CM Bhagwant Man) ने मंगलवार को घोषणा की कि सरकारी विभागों में ग्रुप 'सी' और 'डी' के 35,000 संविदा और  आउटसोर्सिंग  कर्मचारियों की सेवाओं को नियमित किया जाएगा। मान (CM Bhagwant Man) ने कहा कि उन्होंने मुख्य सचिव अनिरुद्ध तिवारी को विधानसभा के अगले सत्र से पहले कर्मचारियों की सेवाओं को नियमित करने के लिए एक विधेयक का मसौदा तैयार करने का निर्देश दिया है।

उन्होंने एक वीडियो संदेश में कहा, "हम विधानसभा में मसौदा कानून को मंजूरी देंगे और अनुबंध और आउटसोसिर्ंग के माध्यम से लगे कर्मचारियों को नियमित करेंगे। यह सरकार का ऐतिहासिक निर्णय होगा।"

मान (CM Bhagwant Man) ने कहा कि संविदा और आउटसोसिर्ंग कर्मचारी नौकरी नियमित करने के लिए लंबे समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "कोई चौक (चौराहा) या पानी की टंकी नहीं थी, जहां वे विरोध नहीं कर रहे थे।"

उन्होंने कहा कि स्कूलों में शिक्षक नहीं हैं, जबकि पात्र शिक्षक नौकरियों के लिए संस्थानों के ठीक बाहर पानी की टंकियों पर चढ़कर विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "इसके लिए किसी रोजगार सृजन की जरूरत नहीं है। हम वह भी करेंगे, लेकिन हमें पहले मौजूदा नौकरियों को भरना होगा।"

इस बीच, विधानसभा के पहले सत्र के तीसरे दिन कांग्रेस पार्टी में प्रशिक्षण बंदूकें, मान (CM Bhagwant Man) ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के शहादत दिवस 23 मार्च को महान को श्रद्धांजलि के रूप में अवकाश घोषित किया।

कांग्रेस के गिद्दड़बाहा विधायक अमरिंदर सिंह राजा वारिंग द्वारा सभी स्कूलों और कॉलेजों को अवकाश घोषित करने के बजाय सभी स्कूलों और कॉलेजों को खुला रखने की मांग के जवाब में, मान (CM Bhagwant Man) ने कहा कि छुट्टी को इन महान शहीदों को उचित श्रद्धांजलि के रूप में घोषित किया गया है।

इस दिन राज्य स्तरीय अवकाश घोषित करने के औचित्य को स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा कि पहले यह अवकाश केवल शहीद भगत सिंह नगर जिले के भीतर स्थानीय रूप से घोषित किया जाता था, ताकि आसपास के क्षेत्रों के लोग शहीद स्मारक पर उनके पैतृक गांव खटकर कलां में श्रद्धांजलि अर्पित कर सकें।

उन्होंने आगे कहा, "अब, हमारी सरकार ने इस दिन पूरे राज्य में राजपत्रित अवकाश घोषित करने का निर्णय लिया है, ताकि राज्य भर से अधिक से अधिक लोग खटकर कलां और हुसैनीवाला दोनों में छात्रों और शिक्षकों सहित महान शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित कर सकें, क्योंकि ये शहीद पूरे देश के हैं और इसलिए इन्हें एक जगह तक सीमित नहीं रखा जा सकता है।"

सीएम भगवंत मान (CM Bhagwant Man) ने वॉरिंग से भगत सिंह का जन्मदिन बताने के लिए कहा, जिसका वह जवाब देने में विफल रहे। इस पर चकित होकर मान (CM Bhagwant Man) ने वारिंग से यह नोट करने को कहा कि महान शहीद भगत सिंह का जन्मदिन 28 सितंबर को पड़ता है।

हालांकि, मान (CM Bhagwant Man) ने कहा कि उनकी सरकार ने युवाओं को यूथ आइकन की विचारधारा और दर्शन से अवगत कराने के लिए राज्य भर के अन्य शैक्षणिक संस्थानों के अलावा स्कूलों, कॉलेजों में सेमिनार, संगोष्ठी, भाषण प्रतियोगिता और कई अन्य कार्यक्रमों की एक श्रृंखला आयोजित करके इस दिन को बड़े पैमान (CM Bhagwant Man)े पर मनाने की योजना बनाई है।


पंजाब : AAP सरकार की पहली कैबिनेट बैठक, चुनावी वादे पर मुहर, बेरोज़गारों को 25 हज़ार सरकारी नौकरियों की सौगात

शनिवार को भगवंत मान कैबिनेट की पहली बैठक हुई। इस बैठक में 25 हजार सरकारी नौकरी निकालने का फैसला लिया गया है। इनमें से 10 हजारी नौकरियां पुलिस विभाग में होंगी, बाकि 15 हजार नौकरियां दूसरे विभागों में होंगी।

चंडीगढ़: पंजाब में मंत्रियों के शपथ लेने के बाद शनिवार को भगवंत मान कैबिनेट की पहली बैठक हुई। इस बैठक में 25 हजार सरकारी नौकरी निकालने का फैसला लिया गया है। इनमें से 10 हजारी नौकरियां पुलिस विभाग में होंगी, बाकि 15 हजार नौकरियां दूसरे विभागों में होंगी। ये नौकरियां एक महीने के भीतर निकाली जाएंगी। बता दें, भगवंत मान ने चुनाव प्रचार के दौरान पंजाब के युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था।

आज ही मान मंत्रिमंडल में दस नए चेहरों को बतौर कैबिनेट मंत्री शामिल कराया गया है। इससे तीन दिन पहले भगवंत मान ने शहीद भगत सिंह के गांव में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित ने चंडीगढ़ के पंजाब भवन में मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इन 10 मंत्रियों में से आठ पहली बार विधायक बने हैं। इन सभी ने पंजाबी भाषा में शपथ ली। हरपाल सिंह चीमा और गुरमीत सिंह मीत हेयर को छोड़कर आठ अन्य पहली बार विधायक बने हैं। दीर्बा से विधायक चीमा ने सबसे पहले शपथ ली, उनके बाद कैबिनेट में एकमात्र महिला और मलोट से विधायक डॉ बलजीत कौर ने शपथ ली।


इसके बाद जंडियाला से हरभजन सिंह, मानसा से डॉ विजय सिंगला, भोआ से लाल चंद, बरनाला से गुरमीत सिंह मीत हेयर, अजनाला से कुलदीप सिंह धालीवाल, पट्टी से लालजीत सिंह भुल्लर, होशियारपुर से ब्रह्म शंकर जिंपा और आनंदपुर साहिब से हरजोत सिंह बैंस ने शपथ ली।

कैबिनेट में मुख्यमंत्री सहित 18 पद हैं। हरियाणा के राज्यपाल बंडारु दत्तात्रेय और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान इस अवसर पर कार्यक्रम में मौजूद थे।पंजाब के राज्यपाल पुरोहित ने बुधवार को स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़ कलां में भगवंत मान को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी।



पढ़िए-शपथ लेने के बाद पंजाब के नए कैबिनेट मंत्रियों की पहली प्रतिक्रिया, किए ये बड़े वादे

आज पंजाब की नई कैबिनेट के मंत्रियों ने मंत्रिपद की शपथ ले ली है। आम आदमी पार्टी के विधायक हरपाल सिंह चीमा, डॉ. बलजीत कौर, हरभजन सिंह,डॉ. विजय सिंगला, लाल चंद, गुरमीर सिंह मीत, कुलदीप सिंह धालीवाल, लालजीत सिंह भुल्लर, ब्रम शंकर और हरजोत सिंह बैंस ने मंत्रिपद की शपथ ली।

चंडीगढ़: आज पंजाब की नई कैबिनेट के मंत्रियों ने मंत्रिपद की शपथ ले ली है। आम आदमी पार्टी के विधायक हरपाल सिंह चीमा, डॉ. बलजीत कौर, हरभजन सिंह,डॉ. विजय सिंगला, लाल चंद, गुरमीर सिंह मीत, कुलदीप सिंह धालीवाल, लालजीत सिंह भुल्लर, ब्रम शंकर और हरजोत सिंह बैंस ने मंत्रिपद की शपथ ली।



मंत्रिपद की शपथ लेने के बाद डॉ. विजय सिंगला ने कहा कि नशीली दवाओं की लत, बेरोज़गारी के विभिन्न मुद्दे हैं जिनका समाधान अभी बाकी है और हमें इन सभी मुद्दों पर काम करना होगा। पंजाब में तरक्की करनी है तो हमें विपक्ष के समर्थन की ज़रूरत पड़ेगी।

वहीं, डॉ. बलजीत कौर ने कहा कि मुझे यहां तक पहुंचाने के लिए पार्टी (AAP) और पार्टी के हाईकमान का धन्यवाद!, पार्टी की ये अच्छी सोच है जो उन्होंने महिला को कैबिनेट में शामिल किया है। मुझे जो भी काम दिया जाएगा वो मैं ईमानदारी से करूंगी।

कैबिनेट  मंत्री गुरमीर सिंह मीत ने कहा कि हम पंजाब में भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाएंगे। वहीं, हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि मैं पहले भी लोगों का सेवक था और आज भी हूं और सेवक बनकर ही काम करूंगा। हम लोगों के लिए काम करेंगे और जो वादे किए उसे पूरा करेंगे।

पंजाब कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ लेने के बाद ब्रह्म शंकर जिम्पा ने कहा कि  बहुत सारी समस्याएं हैं, स्वास्थ्य सेवाएं बहुत ख़राब हैं, हम सुधार के लिए काम करेंगे। हमारे पास एक जर्जर पंजाब है, इसमें कुछ समय लगेगा लेकिन बदलाव ज़रूर आएगा।

कुलदीप सिंह धालीवाल ने कहा  कि मुझे भगवंत मान जी बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है तो बहुत अच्छा लग रहा है। जो भी काम दिया जाएगा उसको पूरे मन से पंजाब के लोगों के हित के लिए काम करेंगे। वहीं, हरजोत सिंह बैंस ने कहा कि हम दिन-रात ईमानदारी से यहां काम करेंगे।


पंजाब में AAP की सरकार: शनिवार को शपथ लेंगे CM भगवंत मान के कैबिनेट मंत्री

पंजाब के मंत्रियों की शपथ 19 मार्च को सुबह 11 बजे होगी। मंत्रियों के शपथ लेने के बाद 12।30 बजे भगवंत मान की पहली कैबिनेट की बैठक पंजाब सचिवालय में होगी।

चंडीगढ़: पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बन चुकी है। भगवंत मान सिंह पहले ही सीएम पद की शपथ ले चुके हैं और अपना कार्यभार संभाल लिया है। अब 19 मार्च यानि शनिवार को पंजाब के कैबिनेट मिनिस्टर्स अपने पद की शपथ लेंगे। मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह के तुरंत बाद कैबिनेट की बैठक भी होगी।

जानकारी के मुताबिक,  पंजाब के मंत्रियों की शपथ 19 मार्च को सुबह 11 बजे होगी। मंत्रियों के शपथ लेने के बाद 12।30 बजे भगवंत मान की पहली कैबिनेट की बैठक पंजाब सचिवालय में होगी।

गौरतलब है कि बुधवार 16 मार्च को आप नेता भगवंत मान ने पंजाब के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली थी। पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने राज्य के एसबीएस (शहीद भगत सिंह) नगर जिले में स्थित शहीद भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़ कलां में आयोजित समारोह में मान को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई थी। उसके बाद आम आदमी पार्टी ने वहां पर तीन दिवसीय विधानसभा सत्र बुलाया था। 

बुधवार को हुये शपथ ग्रहण समारोह में आम आदमी पार्टी (आप) के नवनिर्वाचित विधायकों, दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येन्द्र जैन और अन्य लोग मौजूद थे। सभी ने पीले रंग की पगड़ी पहनी हुई थी।


पंजाब: CM भगवंत मान ने भ्रष्टाचारियों को पकड़ने के लिए फोन नंबर लॉन्च करने की घोषणा की

उन्होंने कहा, "मैं पहले के राजनीतिक दलों की तरह लाल डायरी नहीं रखता और केवल हरी डायरी रखता हूं, इसलिए आपको किसी प्रतिशोध की चिंता करने की जरूरत नहीं है।"

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शपथ लेने के एक दिन बाद गुरुवार को शहीद-ए-आजम भगत सिंह के शहादत दिवस 23 मार्च को जनता के लिए एक मोबाइल फोन नंबर लॉन्च करने की घोषणा की है और उस पर काम के लिए रिश्वत मांगने वाले या कदाचार में लिप्त अधिकारियों के वीडियो अपलोड करने का आग्रह किया है। 

मुख्यमंत्री ने सिविल और पुलिस प्रशासन के शीर्ष अधिकारियों को एक लोक सेवक के रूप में कर्तव्यों का पालन करने और हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में आप को मिले भारी जनादेश का सम्मान करते हुए कहा कि "वे लोग जिन्होंने हमें राज्य की सेवा करने का अवसर दिया है, लोकतंत्र में असली शासक हैं जिनके पास नेताओं को शासन करने या उन्हें दरवाजा दिखाने की शक्ति है।"

भारतीय क्रिकेट टीम के प्रदर्शन से संकेत लेते हुए मान ने कहा, "मैच जीते या हारे लेकिन यह टीम भावना है, जो मायने रखती है।"

इसलिए उन्होंने अधिकारियों से पंजाब को अग्रणी राज्य बनाने के लिए टीम भावना का बेदाग प्रदर्शन करने का आग्रह किया। उन्होंने आगे कहा, "हमारी मुख्य चिंता अपने राज्य को लंदन, कैलिफोर्निया या पेरिस नहीं असली पंजाब बनाने की होनी चाहिए।"

इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार राजनीतिक प्रतिशोध में शामिल नहीं होगी और पूरे प्रशासन को बिना किसी राजनीतिक दबाव के अपने कर्तव्यों का निर्भीकता से निर्वहन करने के लिए कहा, पहले के शासनों के विपरीत, पंजाबियों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए अत्यंत समर्पण और ईमानदारी के साथ, जिन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) को अभूतपूर्व फैसले के साथ सत्ता में वोट दिया है।

उन्होंने कहा, "मैं पहले के राजनीतिक दलों की तरह लाल डायरी नहीं रखता और केवल हरी डायरी रखता हूं, इसलिए आपको किसी प्रतिशोध की चिंता करने की जरूरत नहीं है।"

मान ने सिविल और पुलिस दोनों अधिकारियों की क्षमताओं और क्षमताओं की सराहना करते हुए कहा, "मैं उम्मीद करता हूं कि आप आम आदमी का सम्मान करेंगे और बदले में हम भी आपको एक लोक सेवक होने की वास्तविक भावना का प्रदर्शन करने में सम्मान और उचित पहचान देंगे।"

बिना कुछ बोले उन्होंने कहा, "भ्रष्ट अधिकारियों का मेरी सरकार में कोई स्थान नहीं है और अगर ऐसी कोई शिकायत मेरे संज्ञान में आती है, तो ऐसे अधिकारियों के लिए किसी प्रकार की सहानुभूति की अपेक्षा न करें।"

परंपरा को तोड़ते हुए, मुख्यमंत्री ने आम आदमी के जीवन में बदलाव लाने के लिए नागरिक और पुलिस दोनों अधिकारियों को 'सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पुरस्कार' से पुरस्कृत करने के अलावा सभी का मनोबल बढ़ाने के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष न्याय सुनिश्चित करने की भी घोषणा की।

पंजाब को एक आदर्श राज्य बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हुए मान ने कहा कि उनकी सरकार की सबसे बड़ी चिंता यह होगी कि हमारे युवाओं के लिए रोजगार के भरपूर अवसर पैदा किए जाएं, ताकि राज्य से विदेशों में ब्रेन ड्रेन की दुर्भाग्यपूर्ण प्रवृत्ति को रोका जा सके।

"इस परि²श्य ने गरीब और असहाय माता-पिता को आजीविका कमाने के लिए बेहतर संभावनाओं के लिए अपने बच्चों को विदेश भेजने के लिए अपनी संपत्ति बेचने के लिए मजबूर कर दिया है।"

मान ने वादा किया कि उनकी सरकार जल्द ही हमारे बेरोजगार युवाओं के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता पर रोजगार के जबरदस्त अवसर पैदा करने के लिए एक व्यापक कार्य योजना लेकर आएगी।


पंजाब में 'आप' सरकार: शहीद भगत सिंह के गांव में भगवंत मान सिंह ने ली CM पद की शपथ, आज से भगवंत के 'भरोसे' पंजाब

भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने बुधवार को पंजाब के सीएम के पद की शपथ ली। उन्हें पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। भगत सिंह के गांव खटकर कलां में यह शपथ ग्रहण समारोह हुआ।

चंडीगढ:  भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) ने बुधवार को पंजाब के सीएम के पद की शपथ ली। उन्हें पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। भगत सिंह के गांव खटकर कलां में यह शपथ ग्रहण समारोह हुआ।

इस शपथ ग्रहण समारोह में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल समेत दिल्ली आप के तमाम नेता शामिल हुए। पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को प्रचंड जीत मिली है। भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) पंजाब के 17वें सीएम बन गए हैं। कार्यकाल के हिसाब से वे पंजाब के 25वें सीएम हैं।

Image

117 सीटों वाले पंजाब में आप ने 92 सीटों पर जीत हासिल की है। वहीं, कांग्रेस को 18, अकाली दल को 3 और बीजेपी को 2 सीटों पर जीत मिली। आप ने इस बार भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Man) के चेहरे पर चुनाव लड़ा था। मान संगरूर से दो बार के सांसद भी रहे हैं।

Image



पंजाब में 'आप' की सरकार: भगवंत मान बुधवार को अकेले लेंगे पंजाब सीएम पद की शपथ

सूत्रों ने बताया कि पार्टी ने फैसला किया है कि केवल मान ही शपथ लेंगे क्योंकि शपथ ग्रहण एक विशेष और ऐतिहासिक स्थान पर हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि 16 अन्य मंत्रियों के शपथ ग्रहण के साथ जल्द ही मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा।

नई दिल्लीः भगवंत मान और केजरीवाल ने रविवार को जलियांवाला बाग का दौरा किया और अमृतसर में रोड शो से पहले स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की। स्मारक जाने से पहले आप के दो वरिष्ठ नेताओं ने आशीर्वाद लेने के लिए स्वर्ण मंदिर का दौरा किया।


इस बीच, आम आदमी पार्टी के शीर्ष नेताओं द्वारा अपने मनोनीत मुख्यमंत्री भगवंत मान को अपने मंत्री सहयोगी चुनने की छूट देने की खबरों के बीच मंत्रिमंडल के संभावित गठन को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। सूत्रों ने बताया कि पार्टी ने फैसला किया है कि केवल मान ही शपथ लेंगे क्योंकि शपथ ग्रहण एक विशेष और ऐतिहासिक स्थान पर हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि 16 अन्य मंत्रियों के शपथ ग्रहण के साथ जल्द ही मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा। 

गौरतलब है कि मान ने केजरीवाल को शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया है। रविवार को आप सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल एक दिन के अमृतसर दौरे पर पहुंचे, जहां उन्होंने पंजाब में पार्टी को दो-तिहाई बहुमत देने के लिए राज्य के लोगों का आभार व्यक्त करने के लिए एक रोड शो में हिस्सा लिया। आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को कहा कि पार्टी नेता भगवंत मान अकेले 16 मार्च को स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के पैतृक गांव खटकर कलां में शपथ लेंगे जबकि 16 मंत्रियों को बाद में शपथ दिलाई जाएगी। 


पंजाब में 'आप' की सरकार: आज केजरीवाल संग भगवंत मान अमृतसर में करेंगे रोड शो, 16 को लेंगे सीएम पद की शपथ

चंडीगढ़: पंजाब में प्रचंड जीत के बाद आम आदमी पार्टी (AAP) के सीएम उम्‍मीदवार भगवंत मान (Bhagwant Mann) 16 मार्च को शहीद भगत सिंह के गांव में मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेंगे। इससे पहले आज यानी 13 मार्च को अमृतसर में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का मेगा रोड शो होगा। 


बता दें कि भगवंत मान 16 मार्च को सीएम पद की शपथ ले सकते हैं। गुरुवार को उन्होंने ऐलान किया था कि वह राजभवन में नहीं बल्कि भगत सिंह के गांव खटकरकलां में शपथ लेंगे।

गौरतलब है कि पंजाब की 117 विधानसभा सीटों में से आम आदमी पार्टी में 92 सीटों पर जीत दर्ज की है।


पंजाब में AAP सरकार: मनोनीत सीएम भगवंत मान ने 122 पूर्व विधायकों की सुरक्षा वापस ली

सूची में पूर्व मुख्यमंत्रियों- कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रकाश सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल और राज्य कांग्रेस प्रमुख सिद्धू के नाम नहीं हैं।

चंडीगढ़: पंजाब के मनोनीत मुख्यमंत्री भगवंत मान ने वीआईपी संस्कृति के खिलाफ एक स्पष्ट संदेश देते हुए शनिवार को शपथ ग्रहण से पहले राज्य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी सहित 122 पूर्व विधायकों, मंत्री और वीआईपी की सुरक्षा वापस ले ली। पूर्व मंत्रियों में कांग्रेस के मनप्रीत सिंह बादल और परगट सिंह शामिल हैं, जो चुनाव हार गए हैं।

हालांकि, सूची में पूर्व मुख्यमंत्रियों- कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रकाश सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल और राज्य कांग्रेस प्रमुख सिद्धू के नाम नहीं हैं लेकिन सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर, जो पूर्व विधायक हैं, उन लोगों में शामिल हैं, जिनकी सुरक्षा हटा ली गई है।


Punjab Election: कैप्टन अमरिंदर का दावा, कहा-'20-30 से ज्यादा सीटें नहीं जीतेगी कांग्रेस', CM चन्नी-सिद्धू को बताया 'बेकार'

उन्होंने कहा, "वे (कांग्रेस) इस बात से चिंतित हैं कि मैं पंजाब में क्या हासिल कर पा रहा हूं जो उनके खिलाफ जा रहा है। मैं अनुमान लगा सकता हूं कि कांग्रेस को 20-30 से ज्यादा सीटें नहीं मिलेंगी।"

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब के पूर्व सीएम और पीएलसी अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस पर हमला करते हुए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी एयर पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को 'बेकार' बताते हुए दावा किया है कि कांग्रेस पंजाब में 20-30 सीटों से ज्यादा नहीं जीत सकती।


वहीं, अमरिंदर सिंह ने सीएम चन्नी और सिद्धू पर हमला बोलते हुए कहा, "चरणजीत चन्नी क्या है? क्या वह जादूगर है कि 3 महीने में वह पंजाब में चमत्कार कर सकता है? चुनाव से पहले उसे हीरो बनाने की कोशिश में सारा श्रेय उसे दिया गया... मुझे लगता है कि दोनों (चन्नी और नवजोत एस सिद्धू) बेकार हैं।"

एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि विधानसभा चुनाव में राज्य से कांग्रेस का सफाया हो जाएगा। पत्रकारों से बात करते हुए, कांग्रेस छोड़ पंजाब लोक कांग्रेस का गठन करने वाले अमरिंदर सिंह ने कहा, "मैं पटियाला जीतने को लेकर निश्चित हूं। मुझे लगता है कि हम चुनाव जीतेंगे ... वे (कांग्रेस) एक अलग दुनिया में रहते हैं और पंजाब में उनका सफाया हो जाएगा।" 

कैप्टन ने पटियाला में वोट डालने के बाद कहा, "भगवंत मान देशद्रोही हैं और वह अरविंद केजरीवाल का समर्थन कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "वे (कांग्रेस) इस बात से चिंतित हैं कि मैं पंजाब में क्या हासिल कर पा रहा हूं जो उनके खिलाफ जा रहा है। मैं अनुमान लगा सकता हूं कि कांग्रेस को 20-30 से ज्यादा सीटें नहीं मिलेंगी।"

अमरिंदर सिंह ने सीएम चन्नी और सिद्धू पर हमला बोलते हुए कहा, "चरणजीत चन्नी क्या है? क्या वह जादूगर है कि 3 महीने में वह पंजाब में चमत्कार कर सकता है? चुनाव से पहले उसे हीरो बनाने की कोशिश में सारा श्रेय उसे दिया गया... मुझे लगता है कि दोनों (चन्नी और नवजोत एस सिद्धू) बेकार हैं।"

बता दें कि आज पंजाब की सभी 117 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हो रही है। इस बार पंजाब में कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप), शिरोमणि अकाली दल-बहुजन समाज पार्टी गठबंधन और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पंजाब लोक कांग्रेस पार्टी के गठबंधन के साथ बहुकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है। 


Punjab Election: सभी 117 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग जारी, 1 बजे तक 34% वोटिंग

सुबह 8 बजे से मतदान हो रहा है। राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक, दोपहर 1 बजे तक पंजाब विधानसभा चुनाव में 33% वोटिंग हो चुकी है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब में रविवार सुबह 117 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान शुरू हो गया, जहां 2.14 करोड़ से ज्यादा मतदाता 93 महिलाओं और दो ट्रांसजेंडरों सहित 1,304 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करने के लिए अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। मतदान शाम 6 बजे तक चलेगा और मतगणना 10 मार्च को होगी। सुबह 8 बजे से मतदान हो रहा है। राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक, दोपहर  1 बजे तक पंजाब विधानसभा चुनाव में  34% वोटिंग हो चुकी है।

इस बार मुकाबला सत्तारूढ़ कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) और शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) के बीच है, जो कृषि कानूनों को लेकर 2020 में भाजपा के साथ दो दशक पुराने नाता तोड़ने के बाद बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है।

संयुक्त समाज मोर्चा के अलावा भाजपा-पंजाब लोक कांग्रेस (पीएलसी) गठबंधन भी मैदान में है, जिसमें पंजाब के किसान निकाय शामिल हैं, जिन्होंने केंद्र के अब निरस्त किए गए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन में हिस्सा लिया था।

सभी पार्टियां मतदाताओं को लुभाने के लिए मुफ्त उपहार दे रही हैं। आप ने सभी महिलाओं के लिए 1,000 रुपये का वादा किया है, जबकि कांग्रेस ने जरूरतमंद महिलाओं के लिए 1,100 रुपये प्रति माह का आश्वासन दिया है। एसएडी-बसपा गठबंधन ने बीपीएल परिवारों की सभी महिला मुखियाओं को हर महीने 2,000 रुपये देने का वादा किया है।

मुख्य चुनाव अधिकारी एस. करुणा राजू ने शनिवार को मीडिया को बताया कि 1,304 उम्मीदवारों में से 231 राष्ट्रीय दलों, 250 राज्य, 362 गैर-मान्यता प्राप्त पार्टियों से और 461 निर्दलीय उम्मीदवारों से हैं। चुनाव लड़ने वाले कुल 315 उम्मीदवार आपराधिक इतिहास वाले हैं।

उन्होंने कहा कि 14,684 मतदान केंद्रों पर 24,689 मतदान केंद्र और 51 सहायक मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं, जिनमें से 2,013 को संवेदनशील और 2,952 संवेदनशील क्षेत्रों के रूप में पहचाना गया है। वहां 1,196 मॉडल मतदान केंद्र और 196 महिला-प्रबंधित केंद्र होंगे। सभी स्टेशनों की वेबकास्टिंग होगी।

राजू ने कहा कि कुल मतदाताओं में 80 साल या उससे ज्यादा उम्र के 444,721, विकलांग मतदाता 138,116 मतदाता और 162 कोरोना मरीज शामिल हैं। इस बार 18-19 साल की आयु के कुल 348,836 मतदाता पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे, जबकि 1608 एनआरआई मतदाता हैं।


Punjab Election के एक दिन प्रतिबंधित संगठन SFJ के संस्थापक पन्नू ने किया 'रेल-पंजाब बंद' का ऐलान, अलर्ट जारी

अधिकारियों ने कहा कि गुरपतवंत सिंह पन्नू द्वारा फेसबुक पर एक वीडियो जारी करने के बाद अलर्ट जारी किया गया था, जिसमें उन्होंने 19 फरवरी को 'रेल-पंजाब बंद' का आह्वान किया था।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: प्रतिबंधित संगठन सिख फ़ॉर जस्टिस ने पंजाब में रेल पंजाब बंद का एलान किया है। पंजाब में 20 फरवरी को चुनाव होने जा रहा है, लेकिन इससे पहले पंजाब में अलर्ट जारी हो गया है। मतदान के लिए 48 घंटे से भी कम समय पहले खुफिया एजेंसियों ने देशव्यापी अलर्ट जारी किया है। 


दरअसल, खालिस्तान समर्थक संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के संस्थापक ने पंजाब चुनाव के एक दिन पहले 'रेल-पंजाब बंद' का ऐलान किया है। अधिकारियों ने कहा कि गुरपतवंत सिंह पन्नू द्वारा फेसबुक पर एक वीडियो जारी करने के बाद अलर्ट जारी किया गया था, जिसमें उन्होंने 19 फरवरी को 'रेल-पंजाब बंद' का आह्वान किया था। 

बता दें कि पंजाब की 117 सदस्यीय विधानसभा के लिए मतदान 20 फरवरी को एक चरण में होने वाला है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरपतवंत सिंह पन्नू ने भी अपने समर्थकों से पंजाब में मतदान केंद्रों पर "केसरी खालिस्तान" के झंडे लगाने और चुनाव के दिन "खालिस्तान जिंदाबाद" के नारे लगाने को कहा है।


अभिनेता दीप सिंह के निधन के किया जिक्र


वीडियो में गुरपतवंत सिंह पन्नू ने पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू की हालिया मौत को "राजनीतिक हत्या" भी करार दिया। अपनी मौत के लिए भारत सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने अपने समर्थकों से अभिनेता से कार्यकर्ता की मौत का बदला लेने के लिए भी कहा।

पन्नू ने यह भी कहा कि दीप सिद्धू जरनैल सिंह भृंडनवाले के "सच्चे अनुयायी" थे और उन्होंने हमेशा एक अलग खालिस्तान की मांग का समर्थन किया। मालूम हो कि पिछले साल 26 जनवरी को लाल किला हिंसा के आरोपियों में शामिल दीप सिद्धू की 15 फरवरी को हरियाणा के सोनीपत जिले में एक सड़क हादसे में मौत हो गई थी। वहीं, अब खुफिया एजेंसियों को अब सतर्क रहने और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठाने को कहा गया है।


मिशन पंजाब: PM मोदी की रैली के कारण CM चन्नी के हेलीकॉप्टर को नहीं मिली उड़ान की अनुमति, सियासत गर्म

अधिकारियों ने कहा कि 'नो फ्लाई जोन' लागू होने के कारण चन्नी के हेलिकॉप्टर को चंडीगढ़ से उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई। घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए चन्नी ने कहा, "मैं मुख्यमंत्री हूं, आतंकवादी नहीं।"

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के हेलीकॉप्टर को सोमवार को चंडीगढ़ से उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मूवमेंट के चलते इलाके में 'नो फ्लाई जोन' लगाया गया था। पीएम मोदी सोमवार को पंजाब में 20 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एक रैली को संबोधित करने पंजाब गए हैं।

चन्नी को होशियारपुर में अपनी पार्टी के नेता राहुल गांधी की रैली में शामिल होना था। पीएम मोदी जालंधर में प्रचार के लिए गए थे और पिछले महीने पंजाब में प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक के बाद यह राज्य में उनका पहला दौरा था।

अधिकारियों ने कहा कि 'नो फ्लाई जोन' लागू होने के कारण चन्नी के हेलिकॉप्टर को चंडीगढ़ से उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई। घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए चन्नी ने कहा, "मैं मुख्यमंत्री हूं, आतंकवादी नहीं।"

जालंधर में जनसभा में मोदी ने चन्नी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाया। मोदी ने कहा, "मैं देवी तालाब मंदिर (जालंधर में) में दर्शन करना चाहता था, लेकिन पुलिस प्रशासन ने मुझे हेलीकॉप्टर से वापस जाने के लिए कहा। य्पंजाब सरकार की यह स्थिति है।"

एक दिन पहले, गृह मंत्री अमित शाह ने लुधियाना में एक चुनावी रैली में चन्नी पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि जब वह देश के प्रधानमंत्री को सुरक्षा प्रदान नहीं कर सके तो वह पंजाब की सुरक्षा कैसे कर सकते हैं।

बता दें कि पंजाब में एक ही चरण में 20 फरवरी को मतदान होगा। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।


पंजाब को विकास की पटरी पर लाएगा शिअद-बसपा गठबंधन: सुखबीर बादल

बादल ने कहा कि कांग्रेस ने बड़े-बड़े वादों और यहां तक कि पवित्र गुटका साहिब की झूठी शपथ लेकर भी लोगों को धोखा दिया है। मुख्यमंत्री बदलने के बाद भी कांग्रेस सरकार अपने वादों को पूरा करने में विफल रही।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने शनिवार को कहा कि शिअद-बसपा गठबंधन पंजाब विधानसभा चुनाव में जीत के लिए पूरी तरह तैयार है और यह गठबंधन राज्य को विकास के रास्ते पर वापस लाएगा और सामाजिक कल्याण की पहल को फिर से शुरू करेगा।

अपने निर्वाचन क्षेत्र जलालाबाद में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए अकाली दल अध्यक्ष ने कहा कि गठबंधन 80 से अधिक सीटें जीतेगा।

उन्होंने कहा कि शगुन योजना की राशि को बढ़ाकर 51,000 रुपये करने से इनकार करने के अलावा किसानों का कर्ज माफ करने और युवाओं को रोजगार देने सहित लोगों से किए गए वादों को पूरा न करने के लिए लोग कांग्रेस पार्टी को दंडित करेंगे।

बादल ने कहा कि कांग्रेस ने बड़े-बड़े वादों और यहां तक कि पवित्र गुटका साहिब की झूठी शपथ लेकर भी लोगों को धोखा दिया है। मुख्यमंत्री बदलने के बाद भी कांग्रेस सरकार अपने वादों को पूरा करने में विफल रही।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने लोगों को राहत देने की बजाय बालू माफियाओं को संरक्षण दिया और अधिकारियों को प्लम पोस्टिंग और तबादलों का झांसा देकर लूटा। बादल ने कहा कि चन्नी के 111 दिन के कार्यकाल को राज्य के इतिहास में सबसे भ्रष्ट युग के रूप में याद किया जाएगा।

आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए बादल ने कहा कि उसके सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के थर्मल प्लांट को बंद करने के अलावा पंजाब के नदियों के पानी को हरियाणा और दिल्ली में स्थानांतरित करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर कर पंजाब विरोधी मंशा पहले ही प्रदर्शित कर दी है।

 इसके साथ ही धान की पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करने की मांग को लेकर बादल ने केजरीवाल को घेरा। उन्होंने कहा, पंजाबी आम आदमी पार्टी को एक मौका देकर एक और पांच साल बर्बाद नहीं कर सकते हैं। 

बताते चलें कि पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए 20 फरवरी को मतदान होना है।


मिशन पंजाब: BJP ने जारी की 27 उम्मीदवारों की नई सूची

पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election)के लिए भाजपा (BJP) ने 27 उम्मीदवारों की अपनी नई सूची जारी कर दी है। इससे पहले भाजपा (BJP) ने 21 जनवरी को दिन में अपने 34 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की थी और 21 जनवरी को ही देर रात पार्टी ने अपने प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी शर्मा को पठानकोट से उम्मीदवार बनाने का भी एलान किया था।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

इनपुट एजेंसियां
नई दिल्ली: पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election)के लिए भाजपा (BJP) ने 27 उम्मीदवारों की अपनी नई सूची जारी कर दी है। इससे पहले भाजपा (BJP) ने 21 जनवरी को दिन में अपने 34 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की थी और 21 जनवरी को ही देर रात पार्टी ने अपने प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी शर्मा को पठानकोट से उम्मीदवार बनाने का भी एलान किया था। इस तरह से पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election)के लिए भाजपा (BJP) अब तक अपने 62 उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतार चुकी है।

Punjab Assembly Elections - BJP released new list of 27 candidates.

भाजपा (BJP) ने पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला को फगवाड़ा और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा को रूपनगर से चुनावी मैदान में उतारा है। कांग्रेस छोड़ कर भाजपा (BJP) में शामिल होने वाले फतेहजंग सिंह बाजवा को बटाला और हरजोत कमल को मोगा से अपना उम्मीदवार बनाया है।
Punjab Assembly Elections - BJP released new list of 27 candidates.

गुरुवार को जारी अपनी नई सूची में भाजपा (BJP) ने सीमा कुमारी को भोआ, परमिंदर सिंह गिल को गुरदासपुर, बलविंदर कौर को अटारी, सुरिंदर महे को करतारपुर, परमिंदर शर्मा को आनंदपुर साहिब, प्रवीण बंसल को लुधियाना उत्तर, वंदना सागवान को बलुआना और विकास शर्मा को घनौर से अपना उम्मीदवार बनाया है।

आपको बता दें कि, गठबंधन दलों के साथ हुए समझौते के मुताबिक भाजपा (BJP) राज्य की 117 सदस्यीय विधानसभा में से 65 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। भाजपा (BJP) की सहयोगी अमरिंदर सिंह की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस 37 और सुखदेव सिंह ढींढसा की पार्टी शिरोमणि अकाली दल ( संयुक्त) 15 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। राज्य में 20 फरवरी को चुनाव होगा और मतगणना 10 मार्च को होगी।


NDPS केस में SC ने शिअद के बिक्रम मजीठिया को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मादक पदार्थ के एक मामले में शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया द्वारा अग्रिम जमानत के लिए दायर याचिका पर सोमवार को सुनवाई के लिए सहमति जताई। शीर्ष अदालत ने साथ ही पंजाब सरकार से अगली सुनवाई तक उनके खिलाफ कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने को कहा है। कोर्ट ने मजीठिया को तबतक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत भी प्रदान की।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

इनपुट एजेंसियां
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मादक पदार्थ के एक मामले में शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया द्वारा अग्रिम जमानत के लिए दायर याचिका पर सोमवार को सुनवाई के लिए सहमति जताई। शीर्ष अदालत ने साथ ही पंजाब सरकार से अगली सुनवाई तक उनके खिलाफ कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने को कहा है। कोर्ट ने मजीठिया को तबतक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत भी प्रदान की।

मजीठिया की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने तर्क दिया कि वर्तमान मामला स्पष्ट रूप से राजनीतिक प्रकृति का है और आगामी चुनावों को आगे बढ़ाने के लिए दर्ज किया गया है, जिसका उद्देश्य बिक्रम सिंह मजीठिया को निशाना बनाना है, जो विपक्षी दल के मुख्यधारा के नेता हैं। उन्हें पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा गिरफ्तारी से तीन दिन की अंतरिम सुरक्षा प्रदान की गई थी, जो आज समाप्त हो गई।

पंजाब सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता पी. चिदंबरम ने तर्क दिया कि पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में उनकी जमानत याचिका खारिज होने के बाद मजीठिया छिप गए हैं और अब वह वकील के माध्यम से पेश हो रहे हैं। भारत के मुख्य न्यायाधीश (Chief Justice of India) एन.वी. रमण ने दलीलें सुनने के बाद मामले की आगे की सुनवाई 31 जनवरी के लिए स्थगित कर दी।

शिअद (Shiromani Akali Dal) प्रमुख सुखबीर बादल के बहनोई मजीठिया अमृतसर के पास मजीठा से विधानसभा चुनाव के लिए मैदान में हैं। 20 दिसंबर को दर्ज नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस (NDPS)) अधिनियम के तहत एक मामले में मोहाली की एक अदालत द्वारा उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के बाद उन्होंने उच्च न्यायालय का रुख किया था।

राज्य पुलिस की अपराध शाखा द्वारा मोहाली पुलिस स्टेशन में दर्ज 49 पन्नों की प्राथमिकी में शिअद (Shiromani Akali Dal) नेता पर एनडीपीएस (NDPS) अधिनियम की धारा 25, 27ए और 29 के तहत मामला दर्ज किया गया है।


मिशन पंजाब: 65 सीटों पर BJP, 37 पर कैप्टन अमरिंदर की पार्टी व 15 पर संयुक्त अकाली दल-ढिंसा लड़ेगी चुनाव

नड्डा (J. P. Nadda) ने कहा, "हम सब मिलकर पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा (BJP) 65 सीटों पर, पंजाब लोक कांग्रेस 37 सीटों पर और 15 सीटों पर संयुक्त अकाली दल-ढिंसा चुनाव लड़ेंगे।"

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चडीगढ़: पंजाब में भारतीय जनता पार्टी 65 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा (J. P. Nadda) ने सोमवार को सीटों का बटवारा किया। उन्होंने कहा कि पंजाब में एनडीए गठबंधन जो हुआ है उसमें भाजपा (BJP), पंजाब लोक कांग्रेस और संयुक्त अकाली दल-ढिंसा शामिल हैं। नड्डा (J. P. Nadda) ने कहा, "हम सब मिलकर पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा (BJP) 65 सीटों पर, पंजाब लोक कांग्रेस 37 सीटों पर और 15 सीटों पर संयुक्त अकाली दल-ढिंसा चुनाव लड़ेंगे।"

भाजपा (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा (J. P. Nadda) ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "हमारे लिए पंजाब एक बोर्डर स्टेट है और उसके साथ-साथ देश की सुरक्षा से जुड़ा हुआ राज्य है। देश की सुरक्षा के लिए पंजाब का मजबूत रहना और वहां एक मजबूत सरकार बनना देश और प्रदेश दोनों के लिए आवश्यक है।"

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सीटों को बटवारा करते समय नड्डा (J. P. Nadda) ने कहा, "पंजाब बॉर्डर पर स्थित राज्य है, देश की सुरक्षा के लिए पंजाब में स्थिर और मजबूत सरकार बनना आवश्यक है। पाकिस्तान की हरकतें हमारे देश के लिए कैसी रही हैं, ये हमें मालूम है। हमने वहां पर देखा है कि ड्रग्स की औऱ हथियारों की स्मगलिंग का प्रयास वहां होता रहता है।" 

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सीटों को बटवारा करते समय नड्डा (J. P. Nadda) ने कहा, "पंजाब बॉर्डर पर स्थित राज्य है, देश की सुरक्षा के लिए पंजाब में स्थिर और मजबूत सरकार बनना आवश्यक है। पाकिस्तान की हरकतें हमारे देश के लिए कैसी रही हैं, ये हमें मालूम है। हमने वहां पर देखा है कि ड्रग्स की औऱ हथियारों की स्मगलिंग का प्रयास वहां होता रहता है।" 


मिशन पंजाब: कैप्टन अमरिंदर की पार्टी PLC ने जारी की प्रत्याशियों की पहली लिस्ट, जानिए-किसे कहाँ से मिला टिकट

प्रत्याशियों की पहली सूची जारी करते हुए कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि इन सभी उम्मीदवारों की मजबूत राजनीतिक साख थी और वे अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में जाने-माने चेहरे हैं। पहली सूची में एक महिला उम्मीदवार भी है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने रविवार को राज्य विधानसभा के लिए 20 फरवरी को होने वाले चुनाव के लिए 22 निर्वाचन क्षेत्रों से पंजाब लोक कांग्रेस (पीएलसी) के उम्मीदवारों की घोषणा की। 

बता दें कि कैप्टन की पार्टी पीएलसी को वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिअद (संयुक्त) के साथ गठबंधन के तहत राज्य की 117 में से 37 सीटें मिली हैं। इसके अलावा पार्टी के लिए संभवत: पांच और सीटों पर चर्चा अभी भी जारी है। 

पीएलसी की 37 सीटों में से अधिकतम 26 मालवा क्षेत्र से हैं। माझा क्षेत्र के लिए सीट आवंटन में पीएलसी की हिस्सेदारी वर्तमान में सात है, जबकि दोआबा क्षेत्र में चार सीटें मिली हैं।

प्रत्याशियों की पहली सूची जारी करते हुए कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि इन सभी उम्मीदवारों की मजबूत राजनीतिक साख थी और वे अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में जाने-माने चेहरे हैं। पहली सूची में एक महिला उम्मीदवार भी है। 

शिअद के पूर्व विधायक और दिवंगत डीजीपी इजहार आलम खान की पत्नी फरजाना आलम खान मलेरकोटला से चुनाव लड़ेंगी। अमरिंदर के अलावा, सूची में आठ अन्य जाट सिख हैं। उम्मीदवारों में से चार एससी समुदाय के हैं, तीन ओबीसी समुदाय के हैं, जबकि पांच हिंदू चेहरे हैं।

अमरिंदर और फरजाना आलम के अलावा, मालवा से एक अन्य प्रमुख उम्मीदवार पटियाला के मौजूदा मेयर संजीव शर्मा हैं, जो पटियाला ग्रामीण सीट से चुनाव लड़ेंगे। कमलदीप सैनी खरड़ से उम्मीदवार हैं, जबकि जगमोहन शर्मा लुधियाना पूर्व से चुनाव लड़ेंगे। लुधियाना दक्षिण सीट का प्रतिनिधित्व सतिंदरपाल सिंह ताजपुरी करेंगे।


प्रेम मित्तल आत्मनगर से चुनाव लड़ेंगे, जबकि दमनजीत सिंह मोही दाखा से चुनाव लड़ेंगे। एक लोकप्रिय दलित चेहरा और एक सेवानिवृत्त पीपीएस अधिकारी, मुख्तियार सिंह को निहालसिंह वाला के आरक्षित निर्वाचन क्षेत्र से नामित किया गया है। धर्मकोट सीट का टिकट रविंदर सिंह गरेवाल को गया है। रामपुरा फूल से अमरजीत शर्मा को उतारा गया है।


सिद्धू पर बोला हमला

उम्मीदवारों का ऐलान करते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि वे नवजोत सिंह सिद्धू को चुनाव नहीं जीतने देंगे। उन्होंने कहा कि सिद्धू पूरी तरह से अक्षम आदमी हैं। उन्होंने कहा, "सिद्धू कुछ नहीं हैं, वे सब समय बर्बादी हैं।"  अमरिंदर सिंह की पार्टी को जो 37 सीटें मिली हैं, जिनमें से अधिकतम 26 मालवा क्षेत्र से हैं। इस क्षेत्र में कैप्टन का अच्छा प्रभाव माना जाता है।  


मिशन पंजाब: पटियाला विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह, कहा-'300 साल पुराने परिवार को नहीं छोडूंगा'

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज खुद के पटियाला विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का एलान किया है। उन्होंने कहा कि वह अपने 300 साल पुराने परिवार (पटियाला) को नहीं छोड़ सकते। इसके अलावा उन्होंने AAP के सीएम कैंडिडेट भगवंत मान और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू पर करारा हमला बोला है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज खुद के पटियाला विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का एलान किया है। उन्होंने कहा कि वह अपने 300 साल पुराने परिवार (पटियाला) को नहीं छोड़ सकते। इसके अलावा उन्होंने AAP के सीएम कैंडिडेट भगवंत मान और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू पर करारा हमला बोला है।

आज कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपनी सीट का एलान करते हुए कहा कि वो पटियाला सीट से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि 300 साल पुराने अपने परिवार का घर नहीं छोड़ूंगा' अपनी सरकार की उपलब्धियों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों पर जनता से वोट मांगूंगा।

उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद कांग्रेस या आप से गठबंधन का सवाल ही नहीं है। हम बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के साथ गठबंधन में जीतेंगे। अगर चुनाव आयोग प्रतिबंधों में ढील देता है तो मैं 117 विधानसभाओं में जाकर लोगों से बात करूंगा और उन तक अपना मैसेज पहुंचाने की कोशिश करूंगा।

अमरिंदर सिंह ने भगवंत मान पर तंज कसते हुए कहा कि वो सिर्फ एक कॉमेडियन हैं और पाकिस्तान के साथ 600 किमी की सीमा वाले पंजाब को कॉमेडियन की जरूरत नहीं है। लोग उनके बहकावे में नहीं आएंगे।

उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू पर तंज कसते हुए कहा कि मुझे नहीं पता कि राहुल गांधी ने सिद्धू में क्या देखा। उसके जैसा आदमी (नवजोत सिंह सिद्धू) जो दिन में दो बार भगवान से बात करने का दावा करता है, वह मानसिक रूप से अस्थिर होने के अलावा कुछ भी कैसे हो सकता है? वह पंजाब पर शासन करने के लायक नहीं है और पाक नेताओं को गले लगाने से यह नहीं बदलेगा।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि बादल और उनका  अकाली दल पंजाब के लिए ठीक नहीं है। वे 2015 के बेअदबी के मामलों, ड्रग्स माफियाओं के खतरे के लिए जिम्मेदार थे। मैं जब मुख्यमंत्री था तो बेअदबी के मामलों को कोर्ट तक ले गया था।


मिशन पंजाब: अभिनेत्री विद्या बालन को सीएम कुर्सी के रूप में दिखाने पर बवाल

AAP आम आदमी पार्टी ने संगरूर से सांसद व आप के प्रदेश अध्यक्ष भगवंत मान को सीएम चेहरा घोषित करने के एलान के बाद 'आप' ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो साझा किया, जिसपर अब बवाल होने लगा है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: AAP आम आदमी पार्टी ने संगरूर से सांसद व आप के प्रदेश अध्यक्ष भगवंत मान को सीएम चेहरा घोषित करने के एलान के बाद 'आप' ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो साझा किया, जिसपर अब बवाल होने लगा है। 

भाजपा व कांग्रेस नेताओं ने इस वीडियो पर आपत्ति जाहिर की है। दरअसल वीडियो में एक दृश्य को लेकर बवाल मचा हुआ है, यह एक फिल्म के गाने का वीडियो है, जिसमें अभिनेत्री विद्या बालन को सीएम की कुर्सी के तौर पर पेश किया गया है। भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस वीडियो पर आपत्ति जताते हुए पंजाब के चीफ इलेक्ट्रोलर ऑफिसर को चिट्ठी लिख शिकायत दर्ज कराई है।


भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस वीडियो पर आपत्ति जताते हुए पंजाब के चीफ इलेक्ट्रोलर ऑफिसर को चिट्ठी लिख शिकायत दर्ज कराई है। दूसरी ओर दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता व राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी भाजपा महिला मोर्चा की नीतू डबास ने भी इस वीडियो पर नाराजगी व्यक्त की है। साथ ही वह जल्द ही इस मसले पट राष्ट्रीय महिला आयोग में शिकायत करने पर भी विचार कर रही हैं। उन्होंने आईएएनएस को बताया कि, एक गाने का इस्तेमाल कर एक महिला को सीएम की कुर्सी के रूप में दिखाना बेहद गलत है। यह आम आदमी पार्टी की महिलाओं के प्रति सोच को दर्शाता है।

उन्होंने आगे आम आदमी पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि, उनके 12 विधायकों पर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ को लेकर नाम शामिल हैं। यही इनकी सोच महिलाओं को लेकर दर्शाता है। इसके अलावा कांग्रेस नेत्री अलका लांबा ने भी इस वीडियो पर आम आदमी पार्टी को निशाना बनाते हुए कहा कि, पार्टी जब बनी तो भगत सिंह के गीतों से गाने गूंजते थे, अब इनके चरित्र में इतना बदलाव आ गया 2022 के पंजाब के चुनाव एक फिल्मी गाने पर लड़ना चाह रहे हैं और उस गाने में महिला अभिनेत्री को सीएम की कुर्सी के तौर पर दिखाया जा रहा है।

आम आदमी पार्टी के मंत्रिमंडल में एक भी महिला नहीं बनाई गई। फिर इस तरह से पंजाब चुनाव में महिला को दर्शाना, अब समय आ गया है पंजाब की महिलाएं, बेटियां इनको जवाब दें। आम आदमी पार्टी ने वीडियो को 'दिल दा मामला है' गाने पर बनाया है। इसमें पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को दिखाया गया है। दोनों नेताओं को आपस में सीएम कुर्सी की खातिर लड़ते दिखाया गया है। वहीं विद्या बालन को सीएम की कुर्सी के तौर पर पेश किया गया है।


पंजाब: एक्शन में ED, CM चन्नी के भतीजे समेत कई खनन कंपनियों के ठिकानों पर की छापेमारी

एजेंसी ने मंगलवार को सुबह ही भूपिंदर सिंह हनी और उसके 10 अन्य ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की है। पंजाब में वोटिंग से कुछ सप्ताह पहले इस ऐक्शन के चलते राजनीति तेज हो सकती है। फिलहाल इस मामले में सीएम चन्नी (CM Charanjeet Singh Channi) या फिर कांग्रेस (Congress) के किसी अन्य नेता का बयान सामने नहीं आया है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में यह छापेमारी की है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब में अवैध रेत खनन कंपनियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने छापेमारी की है। एजेंसी की ओर से जिन लोगों पर छापेमारी की गई है, उनमें से एक राज्य के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (CM Charanjeet Singh Channi) का भतीजा भूपिंदर सिंह हनी भी है।

एजेंसी ने मंगलवार को सुबह ही भूपिंदर सिंह हनी और उसके 10 अन्य ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की है। पंजाब में वोटिंग से कुछ सप्ताह पहले इस ऐक्शन के चलते राजनीति तेज हो सकती है। फिलहाल इस मामले में सीएम चन्नी (CM Charanjeet Singh Channi) या फिर कांग्रेस (Congress) के किसी अन्य नेता का बयान सामने नहीं आया है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में यह छापेमारी की है।

पंजाब में ड्रग्स माफिया के अलावा रेत माफिया का मुद्दा भी हमेशा से चुनावी मुद्दा रहा है। ऐसे में इस छापेमारी के चलते भाजपा की ओर से कांग्रेस (Congress) को घेरा जा सकता है। पंजाब की 117 सीटों पर एक ही राउंड में 20 फरवरी को मतदान होना है।

इससे पहले राज्य में 14 फरवरी को मतदान होना तय था, लेकिन रविदास जयंती के चलते कांग्रेस (Congress) सभी दलों ने चुनाव को टालने की मांग की थी। इसके बाद आयोग ने सोमवार को मतदान 20 फरवरी को कराने का फैसला लिया है।

दरअसल 16 फरवरी को रविदास जयंती है और पंजाब सरकार का कहना है कि राज्य से बड़ी संख्या में लोग इस मौके पर वाराणसी जाते हैं और यदि चुनाव होता है तो फिर समस्या होगी।

सीएम चन्नी (CM Charanjeet Singh Channi) का कहना था कि यदि 14 फरवरी को चुनाव होते हैं तो करीब 20 लाख लोग वोट नहीं डाल सकेंगे। उनकी ओर से चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी गई थी। इसके बाद अन्य दलों ने भी इस मांग का समर्थन किया था।


मिशन पंजाब: सोनू सूद ने बताया कांग्रेस किसे बनाएगी सीएम कैंडिडेट, सिद्धू के लिए 'लाल झंडी'

कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सोनू सूद का इसी से जुड़ा वीडियो शेयर किया है। वीडियो शेयर करते हुए हालांकि आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है, लेकिन वीडियो देखने से इस बात के साफ संकेत मिल रहे हैं कि चन्नी को पार्टी सीएम के तौर पर चुनाव में पेश कर सकती है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: अभिनेता सोनू सूद ने बिना नाम लिए पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को कांग्रेस का सीएम चेहरा बता डाला है। अगर सोनू सूद की बात सही होती है तो यह पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के लिए खतरे की घंटी साबित होगी। 

दरअसल, कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सोनू सूद का इसी से जुड़ा वीडियो शेयर किया है। वीडियो शेयर करते हुए हालांकि आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है, लेकिन वीडियो देखने से इस बात के साफ संकेत मिल रहे हैं कि चन्नी को पार्टी सीएम के तौर पर चुनाव में पेश कर सकती है।

वीडियो के साथ लिखा गया है, "बोल रहा पंजाब, अब पंजे के साथ- मजबूत करेंगे हर हाथ।" इस वीडियो में सोनू सूद खेत के पास बैठे नज़र आ रहे हैं। वो कहते है, "असली चीफ मिनिस्टर वो या असली राजा वो जिसको ज़बरदस्ती कुर्सी पर लाया जाए। उसको संघर्ष न करनी पड़े। उसको बताना न पड़े कि मैं चीफ मिनिस्टर का उम्मीदवार हूं, मैं इसके लायक हूं। वो ऐसा होना चाहिए जो बैकबेंचर हो, उसको पीछे से उठाकर लेकर आएं और बोलें कि तू इसके काबिल है तुम बनो। वो जो बनेगा वो देश बदल सकता है।"

सोनू सूद के इन बयानों के साथ वीडियों में नाटकीय संगीत और खास अंदाज़ के साथ सीएम चन्नी की एंट्री होती है और अगले कुछ सेकंड तक संगीत के साथ सीएम चन्नी की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं। पंजाब कांग्रेस ने इस ट्वीट को रीट्वीट किया है।

बता दें कि हाल ही में सोनू सूद की बहन मालविका सूद कांग्रेस पार्टी में शामिल हुई हैं। उन्हें सीएम चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। कांग्रेस में शामिल होने के बाद मालविका सूद ने सीएम चन्नी की सिद्धू के सामने तारीफ की थी।

उन्होंने कहा था, "बीते दिनों चन्नी साहब के फैसलों से पूरे पंजाब में उनकी वाहवाही हो रही है।" इस दौरान उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी सबसे पुरानी पार्टी है। हम सबको कांग्रेस को सबसे ऊपर ले जाना है।


मिशन पंजाब: CM चन्नी के भाई डा. मनोहर के बगावती तेवर, कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ने का किया एलान

डा. मनोहर सिंह ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है। उन्होंने पिछले महीने बस्सी पठानां सीट से चुनाव लड़ने के लिए एसएमओ के पद से इस्तीफा दे दिया था।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

बस्सी पठानां: पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने 86 प्रत्याशियों की नामों का एलान कर दिया है। 

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के भाई डा. मनोहर सिंह बस्सी पठानां से टिकट के दावेदार थे, लेकिन पार्टी ने यहां से गुरप्रीत सिंह जीपी को चुनाव मैदान में उतार दिया है। इस पर चन्नी के भाई ने बगावती तेवर अपना दिए हैं। 

डा.  मनोहर सिंह ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है। उन्होंने पिछले महीने बस्सी पठानां सीट से चुनाव लड़ने के लिए एसएमओ के पद से इस्तीफा दे दिया था।

एसएमओ के पद से इस्तीफा देने के बाद डा. मनोहर ने चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी। वह फील्ड में सक्रिय भी हो गए थे। हालांकि उन्होंने बातचीत में कहा था कि सीएम का छोटा भाई होने के कारण पार्टी उन्हें टिकट नहीं देगी, लेकिन पार्टी सर्वे भी करवा रही है। सर्वे में अगर पार्टी को लगेगा तो उन्हें टिकट मिल जाएगा। इस बार पार्टी ने अपने ज्यादा विधायकों के टिकट नहीं काटे हैं। 

डा. मनोहर सिंह मोहाली के खरड़ सिविल अस्पताल में बतौर सीनियर मेडिकल आफिसर (एसएमओ) तैनात थे।अगस्त 2021 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। बस्सी पठानां विधानसभा हलका एससी वर्ग के लिए रिजर्व है। 

गत माह एक साक्षात्कार में डा. मनोहर सिंह ने कहा था कि कोविड के दौरान उनकी पोस्टिंग नंदपुर कलौर प्राइमरी हेल्थ सेंटर में थी। उनका कहा था कि इस दौरान उन्होंने क्षेत्र में बहुत काम किया, लेकिन वहां के विधायक जीपी ने उनका तबादला करवा दिया। तब तक क्षेत्र के लोग पूरी तरह से उनसे साथ जुड़ने लगे थे।


मिशन पंजाब: पूर्व मंत्री जोगिंदर सिंह मान ने छोड़ा कांग्रेस का 'हाथ', AAP में हुए शामिल

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले पंजाब के पूर्व मंत्री और तीन बार के विधायक जोगिंदर सिंह मान ने अपना 50 साल पुराना नाता कांग्रेस से तोड़ लिया। मान शनिवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

नई दिल्ली: पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले पंजाब के पूर्व मंत्री और तीन बार के विधायक जोगिंदर सिंह मान ने अपना 50 साल पुराना नाता कांग्रेस से तोड़ लिया। मान शनिवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। 

पंजाब के पूर्व मंत्री जोगिंदर सिंह मान पिछले 50 साल से कांग्रेस पार्टी से जुड़े हुए थे। शनिवार को वो आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की मौजगी में आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। मान ने बेअंत सिंह, राजिंदर कौर भट्टल और अमरिंदर सिंह के मंत्रिमंडलों में मंत्री के रूप में कार्य किया था।

इस मौके पर आप नेता और पंजाब के सह प्रभारी राघव चड्ढा ने कहा कि मान के शामिल होने से राज्य में पार्टी को काफी मजबूती मिलेगी। चड्ढा ने एक ट्वीट में कहा, अरविंद केजरीवाल के दृष्टिकोण से प्रेरित होकर पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री और तीन बार के विधायक जोगिंदर सिंह मान कांग्रेस के साथ अपने 50 साल पुराने जुड़ाव को समाप्त करते हुए आप में शामिल हो गए। वह पंजाब कृषि उद्योग निगम के अध्यक्ष थे।

इसके साथ ही चड्ढा ने कहा, मान के शामिल होने से पंजाब में आप की इकाई को काफी मजबूती मिलेगी। राघव चड्ढा ने ट्वीटर पर एक तस्वीर भी साझा की जिसमें मान को आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में पार्टी में शामिल होते दिखाया गया है।

 दरअसल मान कथित रूप करोड़ों रुपये के पोस्ट-मैट्रिक अनुसूचित जाति (एससी) छात्रवृत्ति घोटाले के आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने और फगवाड़ा को जिला का दर्जा नहीं देने पर कांग्रेस से नाराज थे। मान इसी वर्ग का नेतृत्व करते हैं। फिलहाल जोगिंदर सिंह मान ने कांग्रेस पार्टी के साथ साथ पंजाब के कृषि उद्योग निगम के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

मान ने सोनिया गांधी को लिखा था पत्र

मान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे आने पत्र में कहा कि वो फगवाड़ा के तीन बार के विधायक रह चुके हैं। उनका सपना था कि वह ताउम्र कांग्रेस नेता रहे। मैट्रिक के बाद दी जाने वाली छात्रवृत्ति योजना के गुनहगारों को कांग्रेस संरक्षण दे रही है। 

मान ने कहा, मेरी अंतरात्मा मुझे पार्टी में रहने की अनुमति नहीं देती है। गौरतलब है कि पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए 14 फरवरी को चुनाव होगा और 10 मार्च को नतीजे आएंगे। विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी ने अब तक उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है। जबकि आम आदमी पार्टी ने 100 से अधिक उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है।


मिशन पंजाब: कांग्रेस ने पंजाब में 86 उम्मीदवारों के नाम का एलान किया, सिद्धू अमृतसर से तो CM चन्नी चमकौर साहिब से लड़ेंगे चुनाव

पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) के लिए कांग्रेस (Congress) ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। पहली लिस्ट में 86 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कांग्रेस (Congress) द्वारा की गई है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) के लिए कांग्रेस (Congress) ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। पहली लिस्ट में 86 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कांग्रेस (Congress) द्वारा की गई है।

Image

चंडीगढ़: पंजाब विधान सभा चुनाव (Punjab Assembly Election) (Punjab Assembly Election) के लिए कांग्रेस (Congress) ने उम्मीदवारों की लिस्ट (Congress Candidates List) जारी कर दी है। कांग्रेस (Congress) ने 86 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की है। पंजाब विधान सभा चुनाव (Punjab Assembly Election) में जहां एक तरफ सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) चमकौर साहिब से प्रत्याशी होंगे तो नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) अमृतसर से चुनाव (Punjab Assembly Election) लड़ेंगे।

Image

बता दें कि कांग्रेस (Congress) ने पंजाब विधान सभा चुनाव (Punjab Assembly Election) के लिए सुजानपुर से नरेश पुरी, पठानकोट से अमित विज, गुरदासपुर से बरिंदरजीत सिंह, श्रीहरगोविंदपुर से मनदीप सिंह, डेरा बाबा नानक से सुखजिंदर सिंह रंधावा, राजा सांसी से सुखविंदर सिंह सरकारिया और अमृतसर उत्तरी से सुनील को टिकट दिया है।

Image

अमृतसर वेस्ट से राजकुमार, अमृतसर सेंट्रल से ओमप्रकाश सोनी, अमृतसर ईस्ट से नवजोत सिंह सिद्धू, तरन तारन से डॉक्टर धर्मवीर अग्निहोत्री, कपूरथला से राणा गुरजीत सिंह और सुल्तानपुर लोधी से नवतेज सिंह चीमा कांग्रेस (Congress) के उम्मीवार होंगे।

इसके अलावा शाहकोट से हरदेव सिंह, करतारपुर से चौधरी सुरिंदर सिंह, जालंधर वेस्ट से सुशील कुमार रिंकू, जालंधर सेंट्रल से राजिंदर बेरी, जालंधर नॉर्थ से अवतार सिंह जूनियर, जालंधर कैंट से परगट सिंह, आदमपुर से सुखविंदर सिंह कोटली, होशियारपुर से सुंदर अरोड़ा, आनंदपुर साहिब से कंवरपाल सिंह, रूप नगर से बरिंदर सिंह ढिल्लो, चमकौर साहिब से चरणजीत सिंह चन्नी और एसएएस नगर से बलबीर सिंह सिद्धू कांग्रेस (Congress) के प्रत्याशी होंगे।

कांग्रेस (Congress) ने बस्सी पठाना से गुरप्रीत सिंह, फतेहगढ़ साहिब से कुलजीत सिंह, खन्ना से गुरकीरत सिंह कोटली, लुधियाना ईस्ट से संजीव तलवार, लुधियाना वेस्ट से भारत भूषण, लुधियाना नॉर्थ से राकेश पांडे, राजकोट से कामिल अमर सिंह, मोगा से मालविका सूद और धर्मकोट से सुखजीत सिंह को उम्मीदवार बनाया है।

वहीं फिरोजपुर शहर से कुलबीर सिंह, फरीदकोट से कुशलदीप सिंह ढिल्लो, बठिंडा शहरी से मनप्रीत सिंह बादल, बठिंडा ग्रामीण से हरविंदर सिंह गिल, तलवंडी से खुशबाज सिंह, संगरूर से विजय इंदर और पटियाला ग्रामीण मोहित कांग्रेस (Congress) के उम्मीदवार होंगे।




पंजाब में मिला 5 किलो RDX, विधानसभा चुनाव से पहले बड़ी आतंकी साजिश

राज्य के अमृतसर में 4-5 किलो आरडीएक्स (RDX) मिला है। खबर है कि इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक की बरामदगी धनोए कलां में हुई है। फिलहाल, स्पेशल टास्क फोर्स ने इलाके की तलाशी शुरू कर दी है। दिसंबर में ही लुधियाना स्थित कोर्ट कॉम्प्लैक्स में विस्फोट की घटना हुई थी।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

नई दिल्लीः देश मे पांच राज्यों में चुनाव होने हैं। एसे में आतंकी साजिश की कोशिश तेज हो गई हैं।   पंजाब में फिर एक बार आतंकी साजिश का पर्दाफाश हुआ है। राज्य के अमृतसर में 4-5 किलो आरडीएक्स (RDX) मिला है। खबर है कि इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक की बरामदगी धनोए कलां में हुई है। फिलहाल, स्पेशल टास्क फोर्स ने इलाके की तलाशी शुरू कर दी है। दिसंबर में ही लुधियाना स्थित कोर्ट कॉम्प्लैक्स में विस्फोट की घटना हुई थी।

पंजाब में अगले महीने विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एसएसपी राकेश कौल समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंच चुके हैं। जिस जगह पर विस्फोटक  बरामद हुआ है, वह भारत-पाकिस्तान सीमा से कुछ ही दूरी पर स्थित है। फिलहाल, तलाशी अभियान जारी है और मौके पर भारी सुरक्षाबल तैनात है। पुलिस लगातार संदिग्धों से पूछताछ कर रही है। 

पहले भी मिले है हथगोले और एक टिफिन

फिरोजपुर और अमृतसर सेक्टरों से दो पिस्तौल और 55 राउंड जब्त किए। एक दिन पहले बीएसएफ ने तीन तलाशी अभियानों में पाकिस्तान से तस्करी कर लाई गई खेमकरण सेक्टर में 22 किलो हेरोइन बरामद की थी। पंजाब के दीनानगर से एक किलो आरडीएक्स (RDX) बरामद किये जाने के दो दिन बाद पुलिस ने प्रदेश के गुरदासपुर में एक टिफिन बम एवं चार हथगोले बरामद किए थे। गुरुवार को जिले के सलेमपुर अरैयां गांव के पास टी-प्वाइंट पर जांच के दौरान गुरदासपुर सदर थाना प्रभारी को सड़क किनारे झाड़ियों में एक संदिग्ध बोरी मिली।  सहोता ने कहा कि जांच करने पर उन्हें हथगोले और एक टिफिन बम मिला। 


पीएम की सुरक्षा में चूक: पंजाब के डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय पर गिरी गाज, वीरेश कुमार भावरा को कमान

माना जा रहा है कि मौजूदा डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय पर पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक की वजह से गाज गिरी है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब की चन्नी सरकार द्वारा  राज्य के नए डीजीपी के तौर पर आईपीएस वीरेश कुमार भावरा के नाम पर मुहर लगा दी गई है। माना जा रहा है कि मौजूदा डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय पर पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक की वजह से गाज गिरी है।

सूत्रों के मुताबिक डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय को पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक होने के कारण पद से हटाया गया है। प्रोटोकॉल के तहत राज्य के डीजीपी और मुख्य सचिव को प्रधानमंत्री के काफिले के साथ रहना जरूरी है, लेकिन दोनों अधिकारी उस वक्त काफिले में नहीं थे। इतना ही नहीं डीजीपी की ओर से रूट क्लियर होने का ग्रीन सिग्नल मिला था। उसके बाद ही प्रधानमंत्री सड़क के रास्ते रवाना हुए थे। लेकिन आगे सड़क को प्रदर्शनकारियों ने जाम कर रखा था।


बताते चलें कि यूपीएससी ने डीजीपी के पद के लिए तीन अफसरों का चयन किया था, जिसमें 1987 बैच के ही दिनकर गुप्ता, वीके भावरा और 1988 बैच के प्रबोध कुमार थे।


पंजाब सरकार ने यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन से मिले पैनल के विचार के आधार पर वीरेश कुमार भावरा को नए डीजीपी (DGP) के रूप में नियुक्त किया है। वीके भावरा 1987 बैच के आइपीएस अफसर हैं। बड़ी बात यह है कि वीके भावरा को ऐसे समय डीजीपी नियुक्त किया गया है, जब पंजाब सरकार की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  की सूरक्षा में चूक को लेकर किरकिरी हो रही है।


राज्य के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने आज चुनाव आचार संहिता लागू होने से कुछ घंटे पहले ही उनके नाम पर मुहर लगाई है। चन्नी सरकार ने उनके नाम की आधिकारिक घोषणा भी कर दी है। वीरेश कुमार भावरा वर्तमान डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय  की जगह लेंगे।


लुधियाना ब्लास्ट: मृतक शख्स के बारे में डीजीपी ने किया खुलासा, वह ही लेकर आया था विस्फोटक चीजें

डीजीपी ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि लुधियाना ब्लास्ट बहुत श​क्तिशाली ब्लास्ट था, मौके से हमें काफी लीड मिले। मृतक के हाथ पर हमें टैटू मिला, मौके का जायज़ा करके हमें लगा ​कि मृतक विस्फोटक ला रहा था। जांच में हमें पुख्ता हो गया कि ये सही है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

लुधियाना:  लुधियाना कोर्ट परिसर में हुए ब्लास्ट के मामले में पंजाब के डीजीपी ने बड़ा बयान दिया है। पंजाब के डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय ने कहा कि मृतक (मुख्य आरोपी) पंजाब पुलिस का निलंबित हेड कांस्टेबल था और एसटीएफ ने 2019 में नारकोटिक ड्रग के लिए उसे गिरफ़्तार किया था।

उन्होंने आगे बताया कि 2 साल जेल में रहने के बाद गगनदीप की बेल हुई और उसका ट्रायल चल रहा था। ऐसी उम्मीद है कि जेल में उसका नारकोटिक्स फिर माफिया और फिर ड्रग में ट्रांजिशन हुआ। इसके लिंक पंजाब और विदेश में खालिस्तानी तत्वों, टेरर आउ​टफिट, ​माफिया आउटफिट और नारकोटिक्स स्मगलर के साथ मिले हैं।

डीजीपी ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि लुधियाना ब्लास्ट बहुत श​क्तिशाली ब्लास्ट था, मौके से हमें काफी लीड मिले। मृतक के हाथ पर हमें टैटू मिला, मौके का जायज़ा करके हमें लगा ​कि मृतक विस्फोटक ला रहा था। जांच में हमें पुख्ता हो गया कि ये सही है।


लुधियाना ब्लास्ट: खालिस्तानी आतंकियों ने घटना को दिया था अंजाम, पाकिस्तान कनेक्शन भी आया सामने

इस ब्लास्ट में जर्मनी स्थित एक खालिस्तान समर्थक आतंकवादी और पाकिस्तान स्थित एक कट्टरपंथी की संलिप्तता का खुलासा हुआ है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: लुधियाना सत्र अदालत में हुए ब्लास्ट मामले में सुरक्षा एजेंसियों और पंजाब पुलिस जांच जारी है। जांच के दौरान पता चला है कि पंजाब को अस्थिर करने के मकसद से धमाके किए गए थे। 

इस ब्लास्ट में जर्मनी स्थित एक खालिस्तान समर्थक आतंकवादी और पाकिस्तान स्थित एक कट्टरपंथी की संलिप्तता का खुलासा हुआ है। घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार, जर्मनी स्थित खालिस्तान समर्थक आतंकवादी जसविंदर सिंह मुल्तानी ने 23 दिसंबर को विस्फोट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

पंजाब के होशियारपुर जिले के मंसूरपुर गांव के मूल निवासी मुल्तानी आतंकी हमले करने के लिए पाकिस्तान स्थित तस्करों के अपने नेटवर्क का उपयोग करके भारत में हथियारों और विस्फोटकों की आपूर्ति करता रहा है। 

खुफिया इनपुट से संकेत मिलता है कि पाकिस्तानी आईएसआई ने विशेष रूप से पाकिस्तान का वांटेड गैंगस्टर सह खालिस्तानी कट्टरपंथी, हरविंदर सिंह उर्फ ​​रिंदा संधू के साथ मुल्तानी को विधानसभा चुनावों में पंजाब को अस्थिर करने के लिए आतंकवादी हमले करने का काम सौंपा था।


उपलब्ध इनपुट के अनुसार, मुल्तानी अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है। 

कहा जाता है कि वह अमेरिका स्थित एसएफजे के अध्यक्ष अवतार सिंह पन्नू और हरमीत सिंह उर्फ ​​हरप्रीत उर्फ ​​राणा के लगातार संपर्क में है। सिख रेफरेंडम 2020 के जरिए खालिस्तान के अलगाववादी एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं।


समझा जाता है कि मुल्तानी जर्मनी में एसएफजे के अलगाववादी अभियान में मदद कर रहा है और हाल ही में पाकिस्तान स्थित अपने गुर्गों और हथियारों के तस्करों की मदद से पाकिस्तान से हथियारों, विस्फोटकों, हथगोले और गोला-बारूद की खेप की व्यवस्था करने के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों के संज्ञान में आया।
मुल्तानी पंजाब और भारत के अन्य हिस्सों में सीमा पार से तस्करी कर लाए गए विस्फोटकों का उपयोग करके आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की योजना बना रहा था। 


कपूरथला में नहीं हुई थी कोई बेअदबी, गुरुद्वारे का केयरटेकर गिरफ्तार: CM चन्नी

चन्नी ने चंडीगढ़ में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था, “कपूरथला जिले के निजामपुर गांव में गुरुद्वारे में बेअदबी के बारे में कोई सबूत नहीं मिला है। मारे गए युवक ने कोई बेअदबी नहीं की थी। पहली सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) में संशोधन किया जाएगा और हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा।”

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शुक्रवार को घोषणा की कि पिछले रविवार को कपूरथला जिले के गुरुद्वारे में कोई बेअदबी नहीं हुई थी, इसके ठीक बाद गुरुद्वारे के केयरटेकर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आपको बता दें कि सीएम ने कहा था कि आरोपी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा।

चन्नी ने चंडीगढ़ में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था, “कपूरथला जिले के निजामपुर गांव में गुरुद्वारे में बेअदबी के बारे में कोई सबूत नहीं मिला है। मारे गए युवक ने कोई बेअदबी नहीं की थी। पहली सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) में संशोधन किया जाएगा और हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा।”

19 दिसंबर को कपूरथला के निजामपुर गांव में एक व्यक्ति की उस समय पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी, जब उसने कथित तौर पर एक गुरुद्वारे के ऊपर से सिखों के धार्मिक ध्वज निशान साहिब को हटाने की कोशिश की थी। घटना के बाद, कपूरथला पुलिस ने एक बयान में पुष्टि की कि कोई 'बेअदबी' नहीं हुआ और जिस व्यक्ति को पीट-पीट कर मार डाला गया वह 'चोरी' करने की कोशिश कर रहा था।


पंजाब में चुनाव से पहले हो सकते हैं आतंकी हमले, सुरक्षा एजेंसियों में जारी किया अलर्ट, कश्मीर से भी बुरा हाल होने की जताई आशंका

सुरक्षा एजेंसियों ने इस बावत अलर्ट जारी कर कहा है कि आतंकी हमलों के लिहाज से पंजाब का हाल इस समय कश्मीर से भी बुरा है। चुनाव से पहले आतंकी राज्य की शांति व्यवस्था भंग करने के प्रयास में हैं।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले आतंकी हमले हो सकते हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने इस बावत अलर्ट जारी कर कहा है कि आतंकी हमलों के लिहाज से पंजाब का हाल इस समय कश्मीर से भी बुरा है। चुनाव से पहले आतंकी राज्य की शांति व्यवस्था भंग करने के प्रयास में हैं।


खुफिया एजेंसियों ने पंजाब पुलिस को अलर्ट करते हुए कहा है कि वो सुरक्षा के कड़े उपायों पर ध्यान दे और सोशल मीडिया पर बारिकी से नजर रखें। गुरुवार को लुधियान के एक कोर्ट में हुए हमले के बाद खुफिया एजेंसियों का यह अलर्ट बेहद अहम है।  एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि कई सुरक्षा सलाहकारों ने आतंकी गतिविधियों को लेकर राज्य की पुलिस को अलर्ट किया है। हालात पर बारिकी से नजर रखने के साथ-साथ राज्य पुलिस फिलहाल खुफिया एजेंसियों के साथ तालमेल बैठा कर काम कर रही है। स्थानीय इंटेलिजेंस यूनिट को अलर्ट कर दिया गया है और हर छोटी-बड़ी घटना पर नजर रखी जा रही है।

अधिकारी ने कहा, 'हमने राज्य खुफिया विभाग से जुड़े अफसरों के साथ एक बैठक की है। हमने उन्हें राज्य में आतंकी गतिवधियों को लेकर अलर्ट किया है। हमने उनसे कहा है कि वो सोशल मीडिया पर बारिकी से नजर रखें और किसी भी तरह की अफवाह पर तुरंत ऐक्शन लें। इस वक्त पंजाब कश्मीर से ज्यादा नाजुक हो चुका है।'

अधिकारी ने कहा कि पंजाब से लगे भारतीय सीमा के पास पिछले कुछ दिनों में काफी ड्रोन देखे गये हैं। ड्रोन की मदद से हथियार और असलहे भारतीय सीमा में गिराए गए हैं। ऐसी आशंका है कि इन हथियारों और असलहों का इस्तेमाल राज्य की शांति व्यवस्था को बिगाड़ने के लिए किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि ड्रोन से कई अज्ञात जगहों पर हथियार गिराए जाने की आशंका है और इनका इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों में किया जा सकता है।

बता दें कि लुधियाना जिला अदालत परिसर में गुरुवार को हुए धमाके से दो लोगों की मौत हो गई। इस जोरदार धमाके में पांच अन्य लोग जख्मी भी हुए हैं। यह धमाका जिला अदालत की दूसरी मंजिल पर वॉशरूम में दोपहर करीब 12 बजकर 22 मिनट के आसपास हुआ। कोर्ट के दूसरे माले पर करीब 8 कमरे हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर इलाके की घेराबंदी की और कोर्ट परिसर को खाली भी करवा दिया।


लुधियाना जिला न्यायालय में धमाका, 2 की मौत, 5 घायल

पुलिस ने मौके पर पहुंच कर इलाके की घेराबंदी कर ली है और कोर्ट परिसर को खाली भी करवा दिया है। घायलों में से एक की पहचान एडवोकेट आरएस मांद के तौर पर हुई है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

लुधियाना: पंजाब के लुधियाना जिला न्यायालय परिसर में गुरुवार को हुए धमाके से दो लोगों की मौत हो गई। इस जोरदार धमाके में पांच अन्य लोग जख्मी भी हुए हैं। यह धमाका जिला अदालत की दूसरी मंजिल पर वॉशरूम में दोपहर करीब 12 बजकर 22 मिनट के आसपास हुआ। कोर्ट के दूसरे माले पर करीब 8 कमरे हैं।

पुलिस ने मौके पर पहुंच कर इलाके की घेराबंदी कर ली है और कोर्ट परिसर को खाली भी करवा दिया है। घायलों में से एक की पहचान एडवोकेट आरएस मांद के तौर पर हुई है। 


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोर्ट में वकीलों की हड़ताल के कारण परिसर में अन्य दिनों की तुलना में कम भीड़ थी। हालांकि, यह अभी तक पता नहीं चल सका है कि धमाका सिलेंडर फटने से हुआ या फिर जानबूझकर किया गया है। कोर्ट परिसर के दूसरे माले पर कैंटीन भी है। हालांकि, वॉशरूम में धमाके की वजह से सिलेंडर ब्लास्ट की संभावना को फिलहाल खारिज कर दिया गया है। 

धमाके के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि कुछ राष्ट्र विरोधी तत्व यह कर रहे हैं क्योंकि पंजाब विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। सरकार अलर्ट है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। वहीं पंजाब की पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि राज्य की पुलिस को इस मामले की तह तक जाना चाहिए। 

कैप्टन ने ट्वीट किया, 'लुधियाना कोर्ट परिसर में विस्फोट की विचलित करने वाली खबर। दो व्यक्तियों के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। घायलों के ठीक होने की प्रार्थना करता हूं। पंजाब पुलिस को इसकी तह तक जाना चाहिए'

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कोर्ट कॉम्पलेक्स में मौजूद वकील दावा कर रहे हैं कि यह बम धमाका ही है। हालांकि, पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई है और फिलहाल पूरे इलाके की छानबीन की जा रही है। 

धमाके की आवाज एक किलोमीटर दूर तक सुनी गई है। धमाके के बाद से ही कोर्ट परिसर में अफरा-तफरी का माहौल है। धमाके की वजह स्पष्ट नहीं है लेकिन पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले इस तरह का धमाका कहीं न कहीं व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रहा है। 


वैक्सीन नहीं लगवाने वाले कर्मचारियों की सैलरी नहीं देगी पंजाब सरकार

कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के मद्देनजर पंजाब सरकार ने अपने सभी कर्मचारियों से कहा है कि अगर उन्होंने कोरोना टीकाकरण सर्टिफिकेट नहीं दिखाया तो उन्हें वेतन नहीं मिलेगा।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडी़गढ़: कोरोना के खिलाफ जंग में सबसे ज्यादा सहायक वैक्सीन को न लगवाने वाले सरकारी कर्मचारियों की सैलरी पंजाब सरकार ने रोकने का निर्णय लिया है। कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के मद्देनजर पंजाब सरकार ने अपने सभी कर्मचारियों से कहा है कि अगर उन्होंने कोरोना टीकाकरण सर्टिफिकेट नहीं दिखाया तो उन्हें वेतन नहीं मिलेगा। पंजाब सरकार ने कहा है कि उसके कर्मचारियों को तब तक वेतन नहीं दिया जाएगा जब तक वे वैक्सीन सर्टिफिकेट नहीं जमा करा देते।

राज्य सरकार ने कर्मचारियों से कहा है कि वे अपना फुल या प्रोविजनल वैक्सीन सर्टिफिकेट नंबर पंजाब सरकार के ह्यूमन रिसोर्स पोर्टल iHRMS पर रजिस्टर करें। यदि कोई कर्मी ऐशा नहीं करता है तो उन्हें उनका वेतन नहीं दिया जाएगा। 

पंजाब सरकार के इस निर्णय को अधिक से अधिक कर्मचारियों को टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उठाए गए कदम के रूप में देखा जा रहा है। यह आदेश ऐसे समय जारी किया गया है जब कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमीक्रोन का संक्रमण फैलने का खतरा मंडरा रहा है।




पंजाब विधानसभा चुनाव: 'बेअदबी' बन सकता है सियासी मुद्दा, SGPC ने भी सरकार से की यह मांग

अगले साल अन्य राज्यों की तरह पंजाब में भी विधानसभा चुनाव होने हैं। लेकिन चुनाव से ठीक पहले पंजाब में बेअदबी के मामले सामने आने और हिंसा में लोगों की जान जाने का मुद्दा जोर पकड़ रहा है।

by न्यूज9इंडिया डेस्क

चंडीगढ़: अगले साल अन्य राज्यों की तरह पंजाब में भी विधानसभा चुनाव होने हैं। लेकिन चुनाव से ठीक पहले पंजाब में बेअदबी के मामले सामने आने और हिंसा में लोगों की जान जाने का मुद्दा जोर पकड़ रहा है।

शनिवार और रविवार को महज 24 घंटे के भीतर अमृतसर से कपूरथला तक बेअदबी के प्रयास के दो मामले सामने आए। इन दोनों ही मामलों में संदिग्ध युवकों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। इन घटनाओं के बाद से जहां पंजाब में तनाव की स्थिति है तो वहीं राज्य में राजनीति भी इससे प्रभावित होती दिख रही है।

अकाली दल के नेता सुखबीर बादल ने इस मुद्दे को उठाकर यह संकेत दे दिया है कि विधानसभा चुनाव में उनकी रणनीति क्या रहने वाली है। सोमवार को सुखबीर सिंह बादल ने 2015 में हुई बेअदबी की एक घटना की भी याद दिलाई और कहा कि सरकार अब तक इस घटना के दोषियों को नहीं पकड़ पाई है।

सुखबीर बादल ने कहा, 'हम राजनीति नहीं करना चाहते हैं। लेकिन हम दोषियों को पकड़ना चाहते हैं। बीते 5 सालों में कोई भी दोषी नहीं पकड़ा गया है। यह दुखद है कि उन्होंने डिप्टी सीएम के नेतृत्व में एक जांच कमिटी का गठन किया है। एस जांच समिति में एक जज को भी शामिल करना चाहिए था। इससे पता चलता है कि वे दोषियों को पकड़ना नहीं चाहते हैं।'


सुखबीर बादल ने कहा कि मैं राज्य के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्रियों को याद दिलाना चाहता हूं कि जब हमारी सरकार के दौर में बेअदबी की घटना हुई थी तो आपने कहा था कि सीएम को जेल होनी चाहिए। सीएम और डिप्टी सीएम ने ही इसकी मंजूरी दी थी। आप लोगों ने राजनीति की थी, लेकिन दोषियों को पकड़ने पर कोई फोकस नहीं रहा।

उन्होंने आगे कहा कि आपने पूरे 5 साल सिर्फ बादल फैमिली और अकाली दल को बदनाम करने में ही बिता दिए। सुखबीर बादल के बयान से साफ है कि पंजाब की राजनीति में बेअदबी का मामला चुनाव के दौरान भी गूंजने वाला है।