Skip to main content
Follow Us On
Hindi News, India News in Hindi, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi, ताजा ख़बरें, News9india

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के OSD लोकेश का इस्तीफा, पंजाब कांग्रेस की कलह बनी कारण !

सीएम अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा ने विवाद के बीच अपना इस्‍तीफा उन्‍हें भेज दिया है। इस पत्र में ओएसडी लोकेश शर्मा ने अपनी सफाई भी रखी।

जयपुर: पंजाब में बीते कल यानी 18 सितंबर शानिवार को पंजाब के सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के इस्‍तीफे के घटनाक्रम के बीच राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत के एक ऑफिसर ऑन स्‍पेशल ड्यूटी (ओसडी) को एक ट्वीट करने से एक विवाद बढ़ गया। सीएम  अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा ने विवाद के बीच अपना इस्‍तीफा उन्‍हें भेज दिया है। इस पत्र में ओएसडी लोकेश शर्मा ने अपनी सफाई भी रखी।

ओएसडी शर्मा ने अपने इस्‍तीफे में सीएम गहलोत को संबोधित करते हुए लिखा है,'' मेरे द्वारा किए ट्वीट को राजनैतिक रंग देते हुए, गलत अर्थ निकालकर पंजाब के घटनाक्रम से जोड़ा जा रहा है... मैंने आज तक पार्टी लाइन से अलग कांग्रेस के किसी भी छोटे से लेकर बड़े नेता के संबंध में और प्रदेश की कांग्रेस सरकार को लेकर कभी भी कोई ऐसे शब्‍द नहीं लिखे नहीं हैं जिन्‍हें गलत कहा जा सके...


शर्मा ने आपने पत्र में लिखा है, श्रीमान मेरे आज के ट्वीट से किसी भी रूप में पार्टी, सरकार और आलाकमान की भावननाओं को ठेस पहुंची हो तो मैं करबद्ध रूप से क्षमा चाहता हूं, मेरी मंशा, मेरे शब्‍द और मेरी भावना किसी को भी किसी भी रूप में ठेस पहुंचाने वाली थी और न कभी होगी।

शर्मा ने आगे लिखा कि माननीय फिर भी अगर आपको लगता है मेरे द्वारा जान-बूझकर कोई गलती की है तो आपके विशेषाधिकारी पद से इस्‍तीफा भेज रहा हूं, निर्णय आपको करना है।


राजस्थान के नागौर में बड़ा सड़क हादसा, 11 की मौत, 7 घायल, पीएम ने जताया दुख

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'राजस्थान के नागौर में हुआ भीषण सड़क हादसा बेहद दुखद है। मैं इस दुर्घटना में मारे गए सभी लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।'

नागौर: आज राजस्थान के नागौर जिले में एक सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत हुई गई है और इस हादसे में 7 लोगों के घायल होने की भी खबर है। मिली जानकारी के मुताबिक, हादसा एक क्रूजर के ट्रक के टकराने की वजह से हुई है।


पुलिस स्टेशन नागौर के एसएचओ श्री बालाजी ने बताया कि नागौर में आज सुबह एक क्रूजर के एक ट्रक से टकरा जाने के कारण 11 लोगों की मौत हो गई और 7 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को बीकानेर (नोखा) के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इस हादसे पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'राजस्थान के नागौर में हुआ भीषण सड़क हादसा बेहद दुखद है। मैं इस दुर्घटना में मारे गए सभी लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।'


मिली जानकारी के मुताबिक, जिले के श्रीबालाजी कस्बे के पास एक ट्रक और क्रूजर में जबर्दस्त भिड़ंत हो गई। हादसा इतना भयावह था कि इसमें 11 लोगों की मौत हो गई और 6 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये हैं। हादसे के बाद घटनास्थल पर कोहराम मच गया है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों और मृतकों को संभाला। हादसा कैसे हुआ इसका अभी पता नहीं चल पाया है। घायलों को स्थानीय लोगों की मदद से नोखा अस्पताल पहुंचाया गया है । पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गये हैं।



प्रारंभिक जानकारी के अनुसार हादसा सुबह करीब पौने आठ बजे नागौर जिले के श्रीबालाजी कस्बे के बाईपास पर हुआ। उस समय एक क्रूजर में सवार होकर 17 लोग कहीं जा रहे थे। इसी दौरान श्रीबालाजी कस्बे के बाईपास के पास एक ट्रक से क्रूजर की जोरदार भिड़ंत हो गई। भिड़ंत इतनी जबर्दस्त थी कि क्रूजर मलबे में तब्दील हो गई। इससे क्रूजर में सवार लोग उसमें फंसकर रह गये। दुर्घटना में आठ लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। बाकी 9 लोग गंभीर रूप से घायल हो गये।

सूचना पर स्थानीय थाना पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और घायलों को नोखा अस्पताल भिजवाया। वहां तीन और घायलों ने दम तोड़ दिया। बाद में शेष घायलों का प्राथमिक उपचार के बाद बीकानेर रेफर कर दिया गया। हादसे बाद घटनास्थल पर सड़क खून से लाल हो गई। अभी तक मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस उनकी शिनाख्तगी के प्रयास कर रही है। पुलिस हादसे के कारणों का पता लगाने में जुटी है। हादसे में 11 लोगों की मौत के समाचार से पूरा जिला स्तब्ध है। वहीं हादसे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस भी वहां के हालात और चीख पुकार सुनकर सहम सी गई।


राजस्थान: 5 दरिदों ने किशोरी से किया गैंगरेप, 2 गिरफ्तार, 3 अभी भी फरार

मामला नागौर जिले का है जहां पांच दरिंदों द्वारा एक किशोरी के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया है। आरोपियों में एक नाबालिग है। पुलिस ने मामले मं 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और शेष तीन की तलाश कर रही है।

नागौर: राजस्थान में अब बच्चियों की अस्मत सुरक्षित नहीं रह गई है। आए दिन यहां रेप और गैंगरेप की खबरें सामने आती रहती है। ताजा मामले में एक बार फिर से एक किशोरी के साथ गैंगरेप होने की खबर सामने आई है। मामला नागौर जिले का है जहां पांच दरिंदों द्वारा एक किशोरी के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया है। आरोपियों में एक नाबालिग है। पुलिस ने मामले मं 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और शेष तीन की तलाश कर रही है। 

राजस्थान के नागौर जिले में एक 16 वर्षीय लड़की के साथ गैंगरेप की घटना सामने आई है। आरोप है कि पांच लोगों ने मिलकर घटना को अंजाम दिया। इसमें एक नाबालिग भी शामिल है। पीड़िता के घरवालों ने नागौर के जायल पुलिस थाने में रविवार को मामला दर्ज कराया। इसके बाद पुलिस ने तेजी दिखाते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। वहीं सोमवार को नाबालिग को भी हिरासत में लेने में कामयाब रही। 


थाना इंचार्ज सुरेंद्र कुमार ने मामले की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लड़की के घरवालों का कहना है कि किशोरी को उसके पड़ोसी हरिप्रसाद ने पिछले सप्ताह गुरुवार को किसी काम से अपने घर बुलाया, जहां चार अन्य लोग पहले से ही मौजूद थे। इसके बाद उन्होंने किशोरी के साथ कथित रूप से बलात्कार किया और घटना के बारे के किसी को बताने पर पीड़िता को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी। 

किशोरी के बदले हुए व्यवहार को देखते हुए घरवालों ने उससे इसकी वजह पूछनी शुरू कर दी। काफी समझाने-बुझाने के बाद उसने घटना के बारे में सबको बताया। सुरेंद्र कुमार ने बताया कि इसके बाद घरवालों पुलिस में केस दर्ज कराया। उन्होंने बताया कि पड़ोसी को गिरफ्तार कर लिया गया और नाबालिग को भी हिरासत में ले लिया गया है। अन्य तीनों को भी गिरफ्तार करने का प्रयास किया जा रहा है। 


लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने किया अपने संसदीय क्षेत्र कोटा के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण

लोकसभा अध्यक्ष सांगोद के गांव जाकर वहां बाढ़ से हालात और जान माल के नुकासन का जायजा लेंगे। ओम बिड़ला ने इलाके में आई प्राकृतिक विपदा पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि बाढ़ में फंसे लोगों की हर संभव सहायता करेंगे।

नई दिल्ली/कोटा: लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने आज अपने संसदीय क्षेत्र कोटा जिले के बाढ़ प्रभावित सांगोद क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया। हवाई सर्वेक्षण करने के बाद बिरला एनटीपीसी अंता के हेलीपैड पर पहुंचे, वहां से सड़क मार्ग से सांगोद जाएंगे। लोकसभा अध्यक्ष सांगोद के गांव जाकर वहां बाढ़ से हालात और जान माल के नुकासन का जायजा लेंगे। ओम बिड़ला ने इलाके में आई प्राकृतिक विपदा पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि बाढ़ में फंसे लोगों की हर संभव सहायता करेंगे।

बता दें कि राजस्थान के पूर्वी हिस्सों में हो रही लगातार भारी बारिश के कारण कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गयी है, जिससे निपटने के लिए बृहस्पतिवार से ही राहत और बचाव अभियान जारी है। कई इलाकों में राहत कार्य के लिए सेना के जवानों को उतारा गया है।


मौसम विभाग के अनुसार, झालावाड़ के खानपुर, सरोला और असनावर इलाके पिछले छह दिनों से बारिश के कारण पहले से ही बाढ़ जैसी स्थिति का सामना कर रहे है, लेकिन शुक्रवार की सुबह दो बांधों से 1.5 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद स्थिति और खराब हो गयी। खानपुर में एक दिन में सबसे ज्यादा 172 मिमी बारिश हुई।

दूसरी तरफ, मौसम विभाग ने शनिवार को सवाई माधोपुर, धौलपुर, करौली और बारां जिलों में एक या दो स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताई है।


राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार से पहले शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का वीडियो वायरल, बोले-‘अब मैं 2-5 दिन का मेहमान हूं, जो करवाना है करवा लो’

माना जा रहा है कि राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार के लिए फॉर्मूला तैयार हो गया है। जानकारी के मुताबिक अभी मंत्रिमंडल में 9 मंत्रियों की जगह खाली है। यानी 9 नए मंत्री बन सकते हैं। लेकिन इसके साथ ही बड़ा फेरबदल हो सकता है। करीब 6 से 8 मंत्रियों का पद उनके परफॉर्मेंस के आधार पर जा सकता है।

जयपुर: राजस्थान में जल्द ही मंत्रिमंडल विस्तार होने की चर्चा है। साथ ही इस बात की भी चर्चा तेज हो गई है कि किसे मंत्रिमंडल में बरकरार रखा जाएगा और किसे बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा और किन-किन नए चेहरों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा। लेकिन इससे पहले ही सूबे के शिक्षामंत्री का एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। 

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इस वीडियो को देखकर ऐसा लग रहा है जैसे गोविंद सिंह डोटासरा को यह अहसास हो गया है कि मंत्रिमंडल विस्तार के साथ ही उनकी कुर्सी जाने वाली है।

इस वीडियो में वह किसी काम को लेकर चर्चा कर रहे हैं। इसमें वह एक व्यक्ति से कह रहे हैं, “सोमवार को आ जाओ, एक मिनट में निकाल देंगे जितनी कहो उतनी। क्योंकि अब मैं दो-पाँच दिन का ही मेहमान हूँ। जो करवाना है करवा लो।” बता दें कि हाल ही में गोविंद सिंह डोटासरा के परिजनों का RAS परीक्षा में 80 फीसदी नंबर लाना भी चर्चा में है।

माना जा रहा है कि राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार के लिए फॉर्मूला तैयार हो गया है। जानकारी के मुताबिक अभी मंत्रिमंडल में 9 मंत्रियों की जगह खाली है। यानी 9 नए मंत्री बन सकते हैं। लेकिन इसके साथ ही बड़ा फेरबदल हो सकता है। करीब 6 से 8 मंत्रियों का पद उनके परफॉर्मेंस के आधार पर जा सकता है।

वहीं, कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अजय माकन जयपुर पहुंचे हैं। रविवार को उन्होंने कहा कि राजस्थान में मंत्रिमंडल में फेरबदल को लेकर पार्टी नेताओं के बीच कोई विरोधाभास नहीं है और उन्होंने मंत्रिमंडल फेरबदल को लेकर पार्टी आलाकमान के फैसले पर भरोसा जताया है।


राजस्थान फोन टैपिंग केस : CM गहलोत के OSD लोकेश शर्मा को दिल्ली पुलिस ने किया तलब

पेगासस जासूसी कांड को लेकर मचे बवाल के बीच 'राजस्थान फोन टैपिंग' मामले में दिल्ली पुलिस ने राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा को शनिवार को पूछताछ के लिए तलब किया है।

नई दिल्ली/जयपुर: पेगासस जासूसी कांड को लेकर मचे बवाल के बीच 'राजस्थान फोन टैपिंग' मामले में दिल्ली पुलिस ने राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा को शनिवार को पूछताछ के लिए तलब किया है। दरअसल, मामला केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत द्वारा फोन टैप किए जाने की दर्ज कराई गई शिकायत से जुड़ा है।

वहीं, ओएसडी लोकेश शर्मा ने शुक्रवार को भेजे अपने जवाब में क्राइम ब्रांच के सामने उपस्थित होने में असमर्थतता जताई है। इसके पीछे उन्होंने कहा है कि वह निजी वजहों से दो हफ्तों तक जयपुर से बाहर जा पाने में सक्षम नहीं हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि यदि बेहद जरूरी है तो वह वीडियो कॉल के जरिए पेशी के लिए तैयार हैं।

लोकेश शर्मा को यह नोटिस दिल्ली पुलिस द्वारा 19 जुलाई को जारी की गई थी। इसमें उनसे क्राइम ब्रांच के दिल्ली में रोहिणी स्थित दफ्तर में पूछताछ के लिए हाजिर होने के लिए कहा गया था। दिल्ली पुलिस ने इसी साल मार्च में शर्मा के खिलाफ आपराधिक साजिश का मुकदमा दर्ज किया था।

क्या है मामला

केंद्रीय मंत्री और जोधपुर से भाजपा सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत की शिकायत पर दर्ज यह मुकदमा टेलीफोन पर बातचीत को गलत ढंग से रिकॉर्ड के संदर्भ में दर्ज किया गया था। बता दें कि यह फोन टैपिंग विवाद राजस्थान में पिछले साल जुलाई में सामने आया था।

शेखावत और कांग्रेस नेताओं के बीच कथित बातचीत का यह ऑडियो सामने आने के बाद खासा बवाल मचा था। राजस्थान के तत्काली उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और 18 कांग्रेस विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बगावत कर दिया था।

लोकेश शर्मा पर ये हैं आरोप

लोकेश शर्मा पर आरोप लगे थे कि राज्य में कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने वाली बातचीत का यह ऑडियो उन्होंने खुद ही जानबूझकर वायरल किया था। इस ऑडियो क्लिप के आधार पर कांग्रेस नेता महेश जोशी ने स्टेट एसओजी और एंटी करप्शन ब्यूरो में केस दर्ज करवया था। हालांकि इस एफआईआर में यह बात शामिल नहीं थी कि ऑडियो क्लिप में जिसे गजेंद्र सिंह शेखावत बताया जा रहा है, वह केंद्रीय मंत्री शेखावत ही हैं।

बाद में एसओजी ने यह केस बंद कर दिया था। शर्मा ने भी फोन टैपिंग के आरोपों से इंकार कर दिया था। इसके बाद शर्मा ने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया था। दिल्ली हाई कोर्ट ने पिछले हफ्ते दिल्ली पुलिस को अगली सुनवाई तक शर्मा के खिलाफ कोई एक्शन न लेने का निर्देश दिया था। मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में अगली सुनवाई 6 अगस्त को होनी है। ऐसे में दिल्ली पुलिस चाह रही है कि वह लोकेश शर्मा की बातें भी कोर्ट में बताए।


राजस्थान कांग्रेस में कलह के बीच विधानसभा की 19 समितियों का गठन, सचिन पायलट की भी 'जीत'

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने विधानसभा की 19 विभिन्न समितियों का गठन कर दिया है। इनमें से राजकीय उपक्रम समिति का सभापति सचिन पायलट के करीबी हमाराम चौधरी को बनाया गया है।

जयपुर: राजस्थान कांग्रेस में काफी समय से रस्साकसी जैसी स्थिति बनी हुई है लेकिन अब ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस के बीच उत्पन्न हुई कलह जरूर कम होगी या फिर खत्म हो सकती है। दरअसल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने विधानसभा की 19 विभिन्न समितियों का गठन कर दिया है। इनमें से राजकीय उपक्रम समिति का सभापति सचिन पायलट के करीबी हमाराम चौधरी को बनाया गया है।

राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस में जारी खींचतान के बीच विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी के निर्णय से साफ हो गया कि पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट खेमे के वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी का इस्तीफा स्वीकार नहीं होगा। अपने विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य सही तरीके से नहीं होने और सरकार में अपनी उपेक्षा का आरोप लगाते हुए चौधरी ने विधानसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा ईमेल और डाक से अध्यक्ष को भेज दिया था। उनके इस्तीफ को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे थे।

जोशी ने विधानसभा की 19 विभिन्न समितियों का गठन कर दिया है। इनमें से एक राजकीय उपक्रम समिति का सभापति चौधरी को बनाया गया है। उन्हें सभापति बनाने से साफ हो गया चौधरी का इस्तीफा स्वीकार होने वाला नहीं है। वहीं, कांग्रेस नेताओं का मानना है कि अगर उनका इस्तीफा स्वीकार करना होता तो चौधरी को सभापति नहीं बनाया जाता। जोशी ने सदाचार समिति के सभापति पद पर दीपेंद्र सिंह शेखावत को नियुक्त किया है। सदस्य के रूप में पायलट, रमेश मीणा और विश्वेंद्र सिंह को बनाया गया है। ये सभी एक ही खेमे के नेता हैं।

इतना ही नहीं सचिन पायलट के समर्थक समर्थक मुरारी लाल मीणा को जनलेखा समिति, वेद प्रकाश सोलंकी को विशेषाधिकार समिति, राकेश पारीक को नियम समिति, रामनिवास गावड़िया को पुस्तकालय समिति, जीआर खटाणा को याचिका समिति में शामिल किया गया है। इसी तरह पायलट खेमे के इंद्रराज गुर्जर को आश्वासन समिति, अमर सिंह को अनुसूचित जाति कल्याण समिति, वीरेंद्र सिंह को राजकीय उपक्रम समिति और हरीश मीणा को एस्टीमेट समिति में शामिल किया गया है।


राजस्थान: युवती को ब्लैकमेल कर दरिंदे करते रहे दो साल तक गैंगरेप, अब वीडियो कर दिया वायरल, पुलिस ने सुनी थी फरियाद

पीड़िता पुलिस के पास भी गई थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने की वजह से वह दरिंदों की चंगुल में फंसी रही। अब जब आरोपियों ने उसका वीडियो वायरल कर दिया तो पीड़िता एक बार फिर पुलिस के पास पहुंची तो मामला उजागर हुआ।

अलवर: राजस्थान के अलवर से एक दरिंदगी का मामला सामने आया है। यहां एक युवती का दरिदों ने पहले तो गैंगरेप किया और फिर उसका वीडियो बनाया। गैंगरेप के वीडियो के बल पर दरिंदे युवती का दो साल तक गैंगरेप करते रहे और अंत में वीडियो क्लिप भी वायरल कर दी। मामले में पुलिस ने कार्यवाई करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


पुलिस ने नहीं सुनी थी फरियाद

पीड़िता पुलिस के पास भी गई थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने की वजह से वह दरिंदों की चंगुल में फंसी रही।  अब जब आरोपियों ने उसका वीडियो वायरल कर दिया तो पीड़िता एक बार फिर पुलिस के पास पहुंची तो मामला उजागर हुआ। पुलिस ने गुरुवार को किडनैपिंग और गैंगरेप के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। एक अन्य आरोपी को भी पकड़ा गया है जो इन दिनों पीड़िता को परेशान कर रहा था।

युवती का किया गया था अपहरण

पुलिस में दर्ज शिकायत में कहा गया है कि 20 साल की पीड़िता अप्रैल 2019 में परीक्षा देने अलवर गई थी। वहां वह एक परिचित विकास चौधरी से मिली। विकास और उसके दोस्त भुरु सिंह जाट ने उसे किडनैप कर लिया। उन्होंने पहले उसे ड्रग्स दिया और फिर अलवर के एमआईए एरिया में ले जाकर गैंगरेप किया। लड़की ने बताया कि उस हाउजिंग सोसायटी का गार्ड भी आरोपियों के साथ मिला हुआ था। एफआईआर में लड़की ने कहा कि विकास और भुरु के अलावा दो अन्य लोगों ने भी उसके साथ रेप किया। 

2019 में की गई थी पुलिस से शिकायत

बताया जा रहा है कि पीड़िता ने मई 2019 में भी मालाखेड़ा पुलिस से शिकायत की थी। लेकिन उसकी शिकायत दर्ज नहीं की गई। तब से ही मुख्य आरोपी विकास और अन्य ब्लैकमेलिंग के जरिए उसके साथ गैंगरेप करते आ रहे थे। वह पीड़िता को वीडियो वायरल करने की धमकी देते थे। 

पिछले महीने 25 जून को पीड़िता उस समय दंग रह गई, जब एक अन्य आरोपी गौतम सैनी ने उसे उसके रेप का वीडियो क्लिप भेजा और उसने भी ब्लैकमेल करने की कोशिश की। उसने पीड़िता को 27 जून को मिलने के लिए बुलाया। अलवर की एसपी तेजस्विनी गौतम ने बताया, ''वह (पीड़िता) 28 जून को मुझसे मिलने आई और इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई। इसके आधार पर हमने विकास और भुरु को गिरफ्तार कर लिया है।'' गैंगरेप के दो अन्य आरोपी गिरफ्तार हैं, जबकि पुलिस ने वीडियो भेजने वाले आरोपी सैनी को भी दबोच लिया है। 

दोषियों को नहीं छोडेंगे: सप

एसपी ने कहा कि सैनी को कहीं से पीड़िता का वीडियो क्लिप और नंबर मिला। उसका गैंगरेप में कोई रोल नहीं है, लेकिन 25 जून से वह भी ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहा था। एसपी ने कहा है कि 2019 में एफआईआर दर्ज करने से इनकार किए जाने के मामले की भी जांच कराई जा रही है और यदि कोई दोषी पाया गया तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।


कोटा में 6 युवकों ने चलाई दुकानदार पर ताबड़तोड़ गोलियां, 'तीसरी आंख' में कैद हुई वारदात

एक दूकानदार पर 6 युवकों द्वारा ताबड़तोड़ फायरिंग की गई है। हालांकि, गनीमत ये रही कि निशाना सही नही लगने से दूकानदार को गोली नहीं लगी और वह सुरक्षित है।

कोटा: राजस्थान भी अब धीरे धीरे क्राइम स्टेट बनने की राह पर है। यहां अपराधी दिन-दहाड़े किसी पर भी गोलियां चला दी रहे हैं। अपराधियों के मन में अब पुलिस और कानून का जरा भी भय नहीं रह गया है। ताजा मामले में एक दूकानदार पर 6 युवकों द्वारा ताबड़तोड़ फायरिंग की गई है। हालांकि, गनीमत ये रही कि निशाना सही नही लगने से दूकानदार को गोली नहीं लगी और वह सुरक्षित है। पुलिस मामले की जांच कर रही हूं। घटना पास में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है।


राजस्थान के कोटा जिले से एक खौफनाक घटना सामने आई है। यहां दिनदहाड़े एक व्यापारी पर जानलेवा हमला किया। इस पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है,  6 युवक पिस्तौल से तबातोड़ फायरिंग करते दिखाई दे रहे हैं। 


यह घटना है राजस्थान के कोटा जिले के गुमानपुरा इलाके की। सीसीटीवी कैद हुए घटना में देख सकते हैं कि दो बाइकों पर सवार होकर आए 6 युवकों ने पिस्तौल से कई राउंड फायरिंग  की और आराम से वहां से निकल गए।   जिस शख्स पर यह हमला हुआ था, उसकी पहचान कैलाश मीणा के तौर पर हुई है और वह हादसे के बाद दहशत में आ गए हैं। 

 

मिली जानकारी के मुताबिक कैलाश मीणा फल, सब्जी और अनाज की कमिशन एजेंट के तौर पर खरीद और बिक्री करते हैं। उनका कहना है कि उनकी किसी भी व्यक्ति से कोई रंजिश नहीं है। कई बार गोलियां चलाने के बाद भी जब कैलाश मीणा बच गए तो सभी हमलावर बाइकों पर सवार होकर भाग गए।  ​पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान की कोशिश की जा रही है। हालांकि अब तक उनकी ओर से हमला करने का मकसद सामने नहीं आया है।


राजस्थान: 'भीड़तंत्र' ने गौ तस्करी के शक में 2 लोगों को जमकर पीटा, एक की मौत, दूसरे की हालत गंभीर

यह वाकया रविवार की देर रात का है। गायों को ले जा रहे वाहन में दो लोग सवार थे। जब वो गाड़ी लेकर बेगू नामक जगह पर पहुंचे तो भीड़ ने उन्हें घेर लिया और गौ तस्करी के आरोप में उन दोनों की पिटाई शुरू कर दी।

जयपुर: एक बार फिर से राजस्थान में भीड़तंत्र का न्याय देखने को मिला है। दरअसल, यहां गोकशी के आरोप में लोगों ने 2 लोगों को जमकर पीटा जिसमें से एक शख्स की तो मौत हो गई जबकि दूसरा शख्स जिंदगी और मौत के बीच अस्पताल में जूझ रहा है।


मिली जानकारी के मुताबिक, राजस्थानके चित्तौड़गढ़ में गायों की तस्करी के आरोप में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। जबकि दूसरे की हालत नाजुक बनी हुई है।पीड़ित मध्य प्रदेश के अचलपुर का रहने वाला है।

यह वाकया रविवार की देर रात का है। गायों को ले जा रहे वाहन में दो लोग सवार थे। जब वो गाड़ी लेकर बेगू नामक जगह पर पहुंचे तो भीड़ ने उन्हें घेर लिया और गौ तस्करी के आरोप में उन दोनों की पिटाई शुरू कर दी। भीड़ की पिटाई से बाबूलाल भील की अस्पताल ले जाते हुए मौत हो गई जबकि दूसरे को घायल अवस्था में अस्पताल में दाखिल कराया गया है, जहां उसकी भी हालत नाजुक बनी हुई है।

पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अपराध रवि प्रकाश मेहरड़ा ने बताया कि 13-14 जून की मध्य रात्रि चित्तौड़गढ़ जिले के बिलखंडा चौराहे से दो व्यक्ति गोवंश लेकर मध्य प्रदेश जा रहे थे। उन्होंने बताया कि उन दो व्यक्तियों पर भीड़ ने हमला कर दिया। इनमें से एक बाबू भील (25) ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। दूसरे घायल की पहचान पिंटू भील के रूप में की गई है।

उन्होंने कहा कि इस संबंध में चित्तौड़गढ़ पुलिस ने सात-आठ लोगों को हिरासत में लिया है और पूछताछ की जा रही है। उन्होंने कहा कि पुलिस इस मामले में अभियुक्तों को चिन्हित कर जल्द से जल्द कार्रवाई करेगी और अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जाएगा।


उदयपुर के पुलिस महानिरीक्षक व अन्य आला अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं। चित्तौड़गढ़ पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ हत्या सहित अन्य आरोपों में मामला दर्ज किया है।


भरतपुर: दिन-दहाड़े गोलियों से भूनकर डॉक्टर दंपत्ति की हत्या

भरतपुर: दिन-दहाड़े गोलियों से भूनकर डॉक्टर दंपत्ति की हत्या

भरतपुर: पुरानी रंजिश में एक डॉक्टर और उसकी पत्नी की दिन-दहाड़े हत्या किए जाने का मामला सामने आया है। जिस शख्स ने दोनों की हत्या की है उसकी बहन के हत्या के मामले में डॉक्टर और उसकी मां आरोपी थे। वारदात को बदले की भावना से जोड़कर देखा जा रहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक हीरादास बस स्टैंड के नजदीक व्यस्त चौराहे पर बाइक सवार और हथियारबंद दो लोगों ने डॉक्टर दंपति को सरेआम गोली मार दी और फरार हो गए। वारदात शुक्रवार की शाम 4.45 बजे की है। बाइक सवार लोगों ने दंपति को एक क्रॉसिंग पर पहले ओवरटेक किया फिर आगे बढ़कर उन्हें गोली मार दी। हत्या की ये वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

ओवरटेक करने के बाद दोनों बाइक सवार पैदल चलकर डॉक्टर दंपति के पास गए। जैसे ही डॉक्टर ने कार की खिड़की बंद करनी चाही, बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं और बाइक पर सवार होकर फरार हो गए।


डॉक्टर और उसकी मां पर हत्या का आरोप


पुलिस का कहना है कि वारदात के पीछे बदला लेने की वजह लग रही है। डॉक्टर दंपति एक युवती की हत्या के मामले में शामिल थे, जिसका कथित तौर पर डॉक्टर के साथ संबंध था। दंपति पर गोली चलाने वाले शख्स की पहचान उसी महिला भाई के रूप में हुई है। महिला की कथित तौर पर दो साल पहले हत्या कर दी गई थी। डॉक्टर की पत्नी और मां उस मामले में आरोपी हैं।